+

फेसबुक और व्हाट्सएप मामले पर राजनीति तेज, कांग्रेस ने की यह मांग

कांग्रेस नेताओं ने कहा कि महज एक पखवाड़ में तीन लेख अमेरिकी अखबार वाल स्ट्रीट जनरल तथा टाइम पत्रिका में छप चुके हैं जिनमें खुलासा हुआ है कि फेसबुक तथा व्हाट्सप्प भारतीय जनता पार्टी को चुनावी फायदा पहुंचाने के लिए काम रही है।
फेसबुक और व्हाट्सएप मामले पर राजनीति तेज, कांग्रेस ने की यह मांग
कांग्रेस ने अमेरिकी सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक और व्हाट्सप्प पर भारतीय लोकतंत्र को कमजोर करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि देश की संप्रभुता के लिए चुनौती बन रही इन कंपनी के अधिकारियों की भूमिका की संयुक्त संसदीय समिति से जांच कराई जानी चाहिए।
लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी, प्रवक्ता प्रवीण चक्रवर्ती और रोहन गुप्ता ने साेमवार को यहां संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा कि फेसबुक, व्हाट्सप्प जिस तरह से देश की संप्रभुता पर हमला कर रहे हैं, वह भारतीय लोकतंत्र के लिए चुनौती बन गया है और उसकी इस भूमिका की संसद की संयुक्त समिति से जांच कराये जाने की सख्त आवश्यकता है।
कांग्रेस नेताओं ने कहा कि महज एक पखवाड़ में तीन लेख अमेरिकी अखबार वाल स्ट्रीट जनरल तथा टाइम पत्रिका में छप चुके हैं जिनमें खुलासा हुआ है कि फेसबुक तथा व्हाट्सप्प भारतीय जनता पार्टी को चुनावी फायदा पहुंचाने के लिए काम रही है।
इन कंपनियों के शीर्ष अधिकारी सारे नियमों को ताक पर रखकर सत्ताधारी दल को राजनीतिक लाभ देने की नीति पर काम कर रहे है। इन कंपनियों की भूमिका की जांच संसद की संयुक्त समिति करे और इन कपंनियों को ऐसी सजा मिले ताकि विदेशी कंपनियों को यह संदेश जाए कि भारतीय लोकतंत्र को कमजोर करने का प्रयास किसी भी स्थिति में नहीं किया जाना चाहिए।
उन्होंने कहा कि अमेरिकी समाचार पत्र ने खुलासा किया है कि भारत में फेसबुक की प्रमुख अंखी दास लगातार 2012 से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए काम कर रही हैं। मोदी को 2014 के चुनाव में फेसबुक के माध्यम से उन्होंने चुनाव जिताने का काम किया है। फेसबुक प्रमुख की नीतियों को लेकर कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों ने भी आपत्ति जताई थी लेकिन इसके बावजूद उनकी भूमिका पर किसी ने कुछ नहीं किया। फेसबुक प्रबंधन ने उनके खिलाफ कार्रवाई करना भी उचित नहीं समझा।

राजीव गांधी फाउंडेशन को लेकर BJP ने किए कई अहम खुलासे, कांग्रेस पर लगाए बड़े आरोप


facebook twitter instagram