+

हाथरस गैंगरेप पीड़िता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट, गर्दन पर चोट के निशान और टूटी थीं हड्डियां

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार पीड़िता ने हैवानों के चंगुल से छूटने के लिए काफी संघर्ष किया था, इस वजह से गर्दन की हड्डी भी टूट गई थी।
हाथरस गैंगरेप पीड़िता की पोस्टमार्टम रिपोर्ट, गर्दन पर चोट के निशान और टूटी थीं हड्डियां
हाथरस गैंगरेप पीड़िता की मौत पर देश आक्रोश में हैं। लोग आरोपियों के खिलाफ सजा की मांग को लेकर सड़कों पर है। सिर्फ आम लोग ही नहीं नेताओं से लेकर बॉलीवुड हस्तियां भी इस मामले में न्याय की मांग कर रहे है। 19 साल की दलित लड़की के साथ हुई हैवानियत की रिपोर्ट भी सामने आ चुकी है। 
पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पीड़िता के गले पर चोट के निशान और हड्डियां टूटने का ज़िक्र किया गया है। हालांकि मौत का असली कारण विसरा रिपोर्ट आने के बाद पता चलेगा। पोस्टमार्टम रिपोर्ट दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल द्वारा जारी की गई है। इसी अस्पताल में गैंगरेप पीड़िता ने अंतिम सांसे ली थीं।

सीएम गहलोत का आरोप - बारां की घटना को लेकर जनता को गुमराह कर रहा है विपक्ष

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार पीड़िता ने हैवानों के चंगुल से छूटने के लिए काफी संघर्ष किया था, इस वजह से गर्दन की हड्डी भी टूट गई थी। रिपोर्ट में घटना के बारे में भी जानकारी दी गई है। जिसमें कहा गया है कि ये घटना 14 सितंबर सुबह नौ बजे की है और शाम को चार बजे के करीब पीड़िता को अलीगढ़ के अस्पताल में शिफ्ट किया गया। जब पीड़िता की हालत बिगड़ी तो 28 तारीख को उसे दिल्ली सफदरजंग अस्पताल में लाया गया। लेकिन इलाज के दौरान 29 तारीख को सुबह 6.55 बजे पीड़िता की मौत हो गई।
वहीं उत्तर प्रदेश पुलिस का कहना है कि वे रेप की पुष्टि के लिए फॉरेंसिक रिपोर्ट की प्रतीक्षा कर रहे हैं। गौरतलब है कि 14 सितंबर को हाथरस जिले के चंदपा थाना क्षेत्र स्थित एक गांव की रहने वाली दलित लड़की से कथित तौर पर 4 लोगों ने गैंगरेप किया। हालत बिगड़ने पर पीड़िता को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां मंगलवार को इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।
facebook twitter instagram