नागरिकता संशोधन विधेयक को JDU के समर्थन से प्रशांत किशोर निराश

जनता दल (यू) द्वारा लोकसभा में नागरिकता संशोधन विधेयक का समर्थन किए जाने पर पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने सोमवार को निराशा जाहिर की। उन्होंने कहा कि विधेयक लोगों से धर्म के आधार पर भेदभाव करता है। देर रात लोकसभा में विधेयक पर मतदान होने के बाद जब वह पारित हो गया तब किशोर ने ट्वीट किया कि विधेयक पार्टी के संविधान से मेल नहीं खाता। 
उन्होंने ट्वीट में लिखा, "जदयू के नागरिकता संशोधन विधेयक को समर्थन देने से निराश हुआ। यह विधेयक नागरिकता के अधिकार से धर्म के आधार पर भेदभाव करता है। यह पार्टी के संविधान से मेल नहीं खाता जिसमें धर्मनिरपेक्ष शब्द पहले पन्ने पर तीन बार आता है। पार्टी का नेतृत्व गांधी के सिद्धांतों को मानने वाला है।" 
वही, विधेयक पर चर्चा में भाग लेते हुए लोकसभा में जदयू के नेता राजीव रंजन उर्फ़ ललन सिंह ने कहा कि जदयू विधेयक का समर्थन इसलिए कर रही है क्योंकि यह धर्मनिरपेक्षता के खिलाफ नहीं है। 

PM मोदी ने की शाह की तारीफ, बोले- नागरिकता विधेयक समावेश करने की भारत की सदियों पुरानी प्रकृति के अनुरूप


Tags : JDU,Lok Sabha,Citizenship Amendment Bill,Prashant Kishore,Top News,जदयू,लोकसभा,नागरिकता संशोधन विधेयक,प्रशांत किशोर ,Prashant Kishore,JDU