+

प्रियंका गांधी ने की कांग्रेस समितियों की बैठक, 'भारत बचाओ रैली' को सफल बनाने पर की चर्चा

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राजीव शुक्ला ने संवाददाताओं को बताया कि प्रियंका ने मूलत: दो विषयों, प्रदेश की कानून-व्यवस्था और दिल्ली में आगामी 14 दिसम्बर को होने वाली 'भारत बचाओ रैली' को सफल बनाने पर बैठकें कीं।
प्रियंका गांधी ने की कांग्रेस समितियों की बैठक, 'भारत बचाओ रैली' को सफल बनाने पर की चर्चा
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तर प्रदेश में महिलाओं के प्रति हो रहे अपराधों पर चिंता जाहिर करते हुए शुक्रवार को कार्यकर्ताओं से इसके खिलाफ आंदोलन की रूपरेखा तय करने पर विचार-विमर्श किया। प्रियंका उत्तर प्रदेश के अपने दो दिवसीय दौरे पर आज लखनऊ पहुंचीं और पार्टी की विभिन्न समितियों के साथ बैठक की। 
उन्होंने प्रदेश कांग्रेस पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं से भी मुलाकात की। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राजीव शुक्ला ने संवाददाताओं को बताया कि प्रियंका ने मूलत: दो विषयों, प्रदेश की कानून-व्यवस्था और दिल्ली में आगामी 14 दिसम्बर को होने वाली 'भारत बचाओ रैली' को सफल बनाने पर बैठकें कीं। 
उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश महिलाओं के लिए सुरक्षित नहीं रह गया है। रोज कोई न कोई घटना हो रही है। हैदराबाद में महिला पशु चिकित्सक के साथ घटना हुई, मगर उत्तर प्रदेश में तो रोज ऐसी वारदात हो रही हैं। इसे लेकर प्रियंका ने बड़ी चिंता व्यक्त की है और सबसे विचार-विमर्श किया कि कैसे इस पर आंदोलन शुरू किया जाए। सरकार पर कैसे दबाव बनायें कि उत्तर प्रदेश में महिलाओं को सुरक्षा दी जा सके। 

शिक्षित महिलाएं भावी पीढ़ी का बेहतर निर्माण करती है : राष्ट्रपति कोविंद

शुक्ला ने बताया कि प्रियंका ने बैठकों में 14 दिसम्बर को दिल्ली के रामलीला मैदान में 'भारत बचाओ रैली' को सफल बनाने पर भी गहन विचार-विमर्श किया। उन्होंने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था चौपट हो रही है, विकास दर गिरती जा रही है, महंगाई बढ़ती जा रही है, किसान आत्महत्या कर रहे हैं, उद्योग-धंधे चौपट हो रहे हैं। 
यहां तक कि सरकारी एजेंसियां जैसे रिजर्व बैंक भी कह रहा है कि जीडीपी गिरती जा रही है। मगर सरकार कुछ नहीं कर रही है। इन सभी मुद्दों के खिलाफ दिल्ली के रामलीला मैदान में रैली की जा रही है। शुक्ला ने एक सवाल पर कहा कि जहां तक वर्ष 2022 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की तैयारियों की बात है तो ये प्रियंका के कांग्रेस महासचिव बनने के बाद से ही शुरू हो गयी थीं। ब्लॉक स्तर तक पार्टी की समितियां गठित की जाएंगी। 
हर जगह कार्यकर्ताओं को सक्रिय किया जाएगा। साल भर के अंदर संगठन का ढांचा तैयार हो जाएगा। प्रियंका को आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के मुख्यमंत्री का चेहरा बनाए जाने की सम्भावनाओं के बारे में पूछे जाने पर शुक्ला ने कहा कि वह इस बारे में कुछ नहीं कह सकते, मगर इतना तय है कि वह उत्तर प्रदेश के आम आदमी की आवाज बनकर उभरेंगी। 
facebook twitter