+

प्रियंका गांधी वाड्रा ने ताबड़तोड़ बैठकें कर जनमुद्दों पर सरकार को जगाने की रणनीति पर चर्चा की

सम्भावनाओं के बारे में पूछे जाने पर शुक्ला ने कहा कि वह इस बारे में कुछ नहीं कह सकते, मगर इतना तय है कि वह उत्तर प्रदेश के आम आदमी की आवाज बनकर उभरेंगी।
प्रियंका गांधी वाड्रा ने ताबड़तोड़ बैठकें कर जनमुद्दों पर सरकार को जगाने की रणनीति पर चर्चा की
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने शुक्रवार को पार्टी की विभिन्न समितियों और संगठनों के साथ बैठक कर एक सकारात्मक विपक्ष के रूप में विभिन्न जनमुद्दों पर सरकार को जगाने की रणनीति पर चर्चा की। प्रियंका उत्तर प्रदेश के अपने दो दिवसीय दौरे पर शुक्रवार को लखनऊ पहुंचीं और पार्टी की विभिन्न समितियों, प्रदेश कांग्रेस पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं से मुलाकात की। 

कांग्रेस प्रवक्ता राजीव त्यागी ने 'भाषा' को बताया कि प्रियंका ने सबसे पहले रणनीति और योजना समिति के साथ बैठक की। इसमें महिलाओं के प्रति अपराध, किसानों की समस्याएं, बेरोजगारी और कानून-व्यवस्था के खिलाफ आंदोलन की रणनीति बनायी गयी। 

त्यागी ने बताया कि इन बैठकों में आगामी 14 दिसम्बर को दिल्ली के रामलीला मैदान में होने वाली 'भारत बचाओ महारैली' को सफल बनाने की रणनीति पर भी चर्चा की गयी। उन्होंने बताया कि इसके अलावा प्रियंका ने यूथ कांग्रेस, एनएसयूआई, अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ समेत कांग्रेस के सभी आनुषांगिक संगठनों के पदाधिकारियों से भी मुलाकात की। साथ ही वह कुछ पूर्व सांसदों और विधायकों से भी मिलीं। इन बैठकों में तय किया गया कि किस तरह से कांग्रेस एक सकारात्मक विपक्ष की भूमिका में रहते हुए सरकार को जगाने का काम करेगी। 

इसके पूर्व, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राजीव शुक्ला ने संवाददाताओं को बताया कि प्रियंका ने बैठकों के दौरान खासकर महिलाओं के प्रति हो रहे अपराधों पर गहरी चिंता व्यक्त की और विचार-विमर्श किया कि कैसे इस पर आंदोलन शुरू किया जाए। सरकार पर कैसे दबाव बनायें कि उत्तर प्रदेश में महिलाओं को सुरक्षा दी जा सके।
 
शुक्ला ने एक सवाल पर कहा कि जहां तक वर्ष 2022 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की तैयारियों की बात है तो ये प्रियंका के कांग्रेस महासचिव बनने के बाद से ही शुरू हो गयी थीं। ब्लॉक स्तर तक पार्टी की समितियां गठित की जाएंगी। हर जगह कार्यकर्ताओं को सक्रिय किया जाएगा। साल भर के अंदर संगठन का ढांचा तैयार हो जाएगा। 

प्रियंका को आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के मुख्यमंत्री का चेहरा बनाये जाने की सम्भावनाओं के बारे में पूछे जाने पर शुक्ला ने कहा कि वह इस बारे में कुछ नहीं कह सकते, मगर इतना तय है कि वह उत्तर प्रदेश के आम आदमी की आवाज बनकर उभरेंगी। 
facebook twitter