+

सिंघु और टिकरी बॉर्डर पर किसानों का प्रदर्शन जारी, दिल्ली पुलिस ने की यातायात संबंधी परामर्श जारी

दिल्ली यातायात पुलिस ने ट्वीट किया है, "सिंघू बॉर्डर अभी भी दोनों तरफ से बंद है। कृपया वैकल्पिक रास्तों का उपयोग करें। यातायात मुकरबा चौक और जीटी करनाल रोड से होकर जा रहा है।"
सिंघु और टिकरी बॉर्डर पर किसानों का प्रदर्शन जारी, दिल्ली पुलिस ने की यातायात संबंधी परामर्श जारी
कृषि संबंधित तीन नये कानूनों के विरोध में किसानों के प्रदर्शन के मद्देजर दिल्ली को हरियाणा से जोड़ने वाली सिंघु तथा टिकरी सीमा फिलहाल बंद रहेंगी। दिल्ली यातायात पुलिस ने मंगलवार सुबह इस संबंध में परामर्श जारी कर वाहन चालकों से असुविधा से बचने के लिए इन सीमाओं तक आने वाले मार्गों की बजाय दूसरे मार्ग अपनाने की सलाह दी है।
किसानों के प्रदर्शन के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने हरियाणा से जुड़े सिंघू और टीकरी बॉर्डर पर ना सिर्फ सुरक्षा कड़ी की है बल्कि यातायात भी बंद कर दिया है जिस कारण राष्ट्रीय राजधानी में यातायात कछुए की गति से चल रहा है और सड़कों पर गाड़ियों की लंबी-लंबी लाइनें दिख रही हैं। इन दोनों बॉर्डर पर यातायात बंद होने के कारण दिल्ली से हरियाणा आने-जाने वाले लोग वैकल्पिक रास्तों का उपयोग कर रहे हैं, जिस कारण जाम बढ़ गया है।
दिल्ली यातायात पुलिस ने ट्वीट किया है, ‘‘सिंघू बॉर्डर अभी भी दोनों तरफ से बंद है। कृपया वैकल्पिक रास्तों का उपयोग करें। यातायात मुकरबा चौक और जीटी करनाल रोड से होकर जा रहा है। बहुत-बहुत ज्यादा जाम की स्थिति है। सिग्नेचर ब्रिज से रोहिणी आने-जाने के रास्ते, जीटी करनाल रोड, एनएच 44 और सिंघू बॉर्डर से आने-जाने से बचें।’’
पुलिस ने ट्वीट किया, ‘‘टीकरी बॉर्डर यातायात के लिए पूरी तरह बंद है। बडूसराय और झटीकरा बॉर्डर सिर्फ दुपहिया वाहनों के लिए खुला है। हरियाणा जाने के लिए झारौदा, ढांसा, दौराला, कापसहेड़ा, राजोकरी, एनएच-8, बिजवासन/बजघेरा, पालम विहार और डुंडाहेड़ा बॉर्डर खुला हुआ है।’’ केन्द्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन तेज हो रहा है और राष्ट्रीय राजधानी से जुड़ी सीमाओं पर किसानों का जमावड़ा लगातार बढ़ रहा है।
इसे देखते हुए दिल्ली पुलिस ने हरियाणा और उत्तर प्रदेश से राष्ट्रीय राजधानी में प्रवेश के सभी रास्तों पर सुरक्षा बढ़ा दी है और अवरोधक लगाए हैं। इससे पहले किसानों ने बुराड़ी मैदान में जाने के बाद बातचीत की केन्द्र की पेशकश ठुकरा दी थी और रविवार को कहा था कि वे दिल्ली आने के पांच रास्तों को अवरुद्ध कर देंगे। किसानों ने कहा कि वे अंतिम लड़ाई के लिए यहां आए हैं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उन्होंने उनके ‘मन की बात’ सुनने का आग्रह किया।

किसानों के साथ केंद्र की बातचीत से पहले BJP की बैठक, नड्डा के आवास पर राजनाथ सिंह और शाह मौजूद 

facebook twitter instagram