+

बैकफुट पर गहलोत समर्थक विधायक? खाचरियावास बोले-मानेसर जाने वालों पर होनी चाहिए कार्रवाई

राजस्थान के मंत्री प्रताप सिंह खचरियावास ने मंगलवार को कहा, अनुशासनात्मक कार्रवाई उन लोगों पर होनी चाहिए थी जो मानेसर गए थे। विधायक सोनिया जी के हर फैसले को मानने को तैयार हैं।
बैकफुट पर गहलोत समर्थक विधायक? खाचरियावास बोले-मानेसर जाने वालों पर होनी चाहिए कार्रवाई
राजस्थान में गहलोत समर्थक विधायकों के रवैए पर आलाकमान ने गहरी जाहिर कि तो वहीं विधायकों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की भी खबर सामने आई। इस बीच अशोक गहलोत के समर्थक नेता बैकफुट पर नजर आ रहे हैं। गहलोत के बेहद करीबी नेता और सरकार में मंत्री प्रताप सिंह खचरियावास ने कहा कि विधायक सोनिया जी के हर फैसले को मानने को तैयार हैं।
राजस्थान के मंत्री प्रताप सिंह खचरियावास ने मंगलवार को कहा, अनुशासनात्मक कार्रवाई उन लोगों पर होनी चाहिए थी जो मानेसर गए थे। विधायक सोनिया जी के हर फैसले को मानने को तैयार हैं। मीडिया के जरिए धारणा बनाकर PM या CM की कुर्सी पर कब्जा नहीं कर सकते, जनता का विश्वास जीतने के लिए संघर्ष करने पड़ते हैं। 
उन्होंने कहा कि तना जल्दी पर्यवेक्षकों को नाराज नहीं होना चाहिए। ऐसे गुस्सा राजनीति में नहीं होता। अनुशासनात्मक कार्रवाई तो हमें बीजेपी पर करनी चाहिए। हमें भाजपा के MLAs तोड़ने चाहिए। हम अपने लोगों से नहीं लड़ना चाहते, हमें तो बीजेपी से लड़ना है।
क्या है मानेसर विवाद?
जुलाई साल 2020 का वो महीना है जब सचिन पायलट ने भी बगावती तेवर अपनाते हुए मुख्यमंत्री की कुर्सी की खातिर अपने समर्थित विधायकों के साथ राजस्थान से बाहर मानेसर के एक होटल में डेरा जमाया। उस समय कांग्रेस सरकार के सामने बड़ा संकट और बीजेपी के लिए बड़ा मौका खड़ा हो गया। 
हालात ये तक बने कि सरकार बचाने के लिए अशोक गहलोत को अपने समर्थित विधायकों की बाड़ेबंदी करनी पड़ी। 34 दिनों तक विधायकों के साथ गहलोत भी पहले जयपुर और फिर जैसलमेर की होटलों में रहे। बाद में सचिन पायलट और उनके समर्थित विधायकों ने सरेंडर किया और सदन में गहलोत सरकार का साथ दिया तो सरकार तो संकट टल गया। लेकिन इस बार गहलोत विधायकों ने वही स्थिति ला खड़ी की है।
जानें राजस्थान में पूरा विवाद?

facebook twitter instagram