+

धर्मनगरी की 'मर्यादा' पर उठ रहे सवाल, रात में रेड लाइट एरिया बन जाता है स्टेशन रोड, पुलिस बेखबर

क्या हरिद्वार कोतवाली पुलिस केवल सूचना मिलने पर ही तीर्थनगरी हरिद्वार की मान-मर्यादाओं को कलंकित कर रही महिलाओं के खिलाफ ही कार्रवाई करेगी ?
धर्मनगरी की 'मर्यादा' पर उठ रहे सवाल, रात में रेड लाइट एरिया बन जाता है स्टेशन रोड, पुलिस बेखबर
हरिद्वार,  संजय चौहान (पंजाब केसरी): क्या हरिद्वार कोतवाली पुलिस केवल सूचना मिलने पर ही तीर्थनगरी हरिद्वार की मान-मर्यादाओं को कलंकित कर रही महिलाओं के खिलाफ ही कार्रवाई करेगी ? कुछ महिलाएं हरिद्वार रेलवे स्टेशन व बस अड्डे पर आते जाते लोगों से अश्लील हरकतें करती हैं। पुलिस केवल शिकायत पर ही मौके पर पहुंचकर ऐसी महिलाओं को हिरासत में ले चालानी कार्रवाई तक ही सिमट कर रह गयी है, हालांकि ये कोई पहली बार नहीं है जब यहां ऐसी हरकत हुई हुई हो इससे पहले भी कई बार ऐसी महिलाओ को इसी जगह से पुलिस ने गिरफ्तार किया है। धर्मनगरी हरिद्वार में रोजाना रेलवे रोड शिवमूर्ति से लेकर ललतारौ पुल हरिद्वार की सड़कें रेड लाइट एरिया से कम नजर नहीं आती हैं। यहां देर रात तक सड़क किनारे खड़ी युवतियां आते जाते लोगों को भद्दे इशारे करती हैं। क्या पुलिस का ध्यान इस तरफ नहीं जाता ? ऐसी नहीं है कि हरिद्वार कोतवाली पुलिस यहां से गुजरती न हो ?
हरिद्वार रेलवे स्टेशन रोड रात होते ही रेड लाइट एरिया बन जाता है। मगर पुलिस इससे बेखबर है. हरिद्वार रेलवे स्टेशन रोड के बाहर अंधेरा होते ही कुछ युवतियां खड़ी हो जाती हैं, जो पर्यटकों और अन्य लोगों को भद्दे इशारे करती हैं। हरिद्वार रेलवे स्टेशन और इसके आसपास का कुछ इलाका बीते कुछ समय से इस कदर बदनाम हो गया है कि इसे रेड लाइट एरिया कहा जाने लगा है। रेड लाइट एरिया कहने का कारण यह है कि यहां पर सड़क पर सुबह से ही युवतियां खड़ी होने लगती हैं, जो वहां से गुजरने वालों का ध्यान अपनी और खींचती हैं। युवतियां लोगों को अपने पास नहीं बुलाती बल्कि इनके रंग रूप को देख लोग खुद ही इनकी तरफ बढ़ जाते हैं। खबर है कि वेश्यावृत्ति से जुड़ी इन युवतियों के पास ग्राहकों के लिए कमरे की पूरी व्यवस्था होती है। खबर है कि एक बार ग्राहक से बात तय हुई तो ये सीधे श्रवण नाथ नगर के अधिकांश होटलों में पहुंच जाती हैं। रेलवे स्टेशन हरिद्वार के बाहर जिस जगह रोज शाम यह रेड लाइट एरिया बनता है उस से चंद कदमों की दूरी पर पुलिस पिकेट मौजूद है। बस स्टैंड के एकदम बाहर पुलिस की तैनाती रहती है। सवाल ये ही है कि आखिर पुलिस कब कार्रवाई करेगी ?
facebook twitter instagram