+

जनता को पांच साल तक बेवकूफ बनाती रही रघुवर सरकार : हेमंत सोरेन

लोकसभा चुनाव में सभी के खाते में 15-15 लाख भेजने की बात कही थी लेकिन वह सब सिर्फ जनता को बेवकूफ बनाने के लिए अफवाह मात्र था।
जनता को पांच साल तक बेवकूफ बनाती रही रघुवर सरकार : हेमंत सोरेन
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने राज्य की रघुवर दास सरकार पर आम लोगों की गाढ़ कमाई को खुद के चुनाव प्रचार पर खर्च करने का आरोप लगाते हुए आज कहा कि यह सरकार जनता को पांच साल तक केवल बेवकूफ बनाती रही है।

झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के कार्यकारी अध्यक्ष श्री सोरेन ने धनवार विधानसभा क्षेत्र के घोड़थम्बा में झामुमो प्रत्याशी निजामुद्दीन अंसारी के पक्ष चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा कि रघुवर सरकार के पास पारा शिक्षकों और आंगनबाड़ सेविकाओं-सहायिकाओं को देने के लिए पैसे नहीं है।

 राज्य के विकास के लिए पैसे नहीं हैं लेकिन खुद के विकास एवं बड़-बड़ होर्डिंग और अखबारों में प्रचार करने के लिए पैसे हैं। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि रघुवर सरकार पांच साल तक जनता को केवल बेवकूफ बनाती रही है।

श्री सोरेन ने कहा कि श्री रघुवर दास की पूर्ण बहुमत की सरकार होने के बाद भी पिछले पांच साल में झारखंड लोक सेवा आयोग (जेपीएससी) की एक भी प्रतियोगिता परीक्षा आयोजित नहीं हो पाई। वहीं, शिक्षक पात्रता परीक्षा (टेट) उत्तीर्ण युवा आज भी रोजगार के इंतजार में भटक रहे है।

झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष ने कहा कि रघुवर सरकार ने झारखंड की जमीनों पर पाबंदी लगाकर अपने कॉर्पोरेट दोस्तों का फायदा पहुंचाया है लेकिन अब जनता को घबराने की जरूरत नहीं है क्योकि ये सरकार अब सिर्फ चन्द दिनों की रह गई है। उन्होंने वादा किया कि यदि राज्य में झामुमो, कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) महागठबंधन सरकार बनाने में सफल रहा तो पारा शिक्षकों और आंगनबाड़ सेविकाओं-सहायिकाओं को सड़क पर आंदोलन करने की जरूरत नहीं पड़गी।
 
श्री सोरेन ने मतदाताओं को सावधान करते हुए कहा कि इस बार का विधानसभा चुनाव थोड़ विचित्र है। भाजपा दूसरे राज्यों में जिस दल के साथ मिलकर चुनाव लड़ रही है वह झारखंड में अलग-अलग चुनाव लड़ रहे हैं। इसका मुख्य उद्देश्य झारखंड में जनता के वोटों का बिखराव करना है लेकिन जनता को यह समझना है कि उन्हें वोटो को बिखेरने के बजाय राज्य के हित में काम करने वाली पार्टी को देना है। उन्होंने कहा कि आखिर क्या वजह है कि झारखंड में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के घटक दल तार-तार बिखर कर अलग-अलग चुनाव लड़ रहे हैं।

झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष ने कहा कि झारखंड को डबल इंजन की सरकार ने बर्बाद कर दिया है। भाजपा कभी अनुच्छेद 370 के नाम पर तो कभी राम मंदिर के नाम पर लोगों को सिर्फ गुमराह कर रही है। लोकसभा चुनाव में सभी के खाते में 15-15 लाख भेजने की बात कही थी लेकिन वह सब सिर्फ जनता को बेवकूफ बनाने के लिए अफवाह मात्र था।

श्री सोरेन ने कहा कि भाजपा सिर्फ हिन्दू-मुसलमान के नाम पर जनता को लड़ने का काम करती है। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए भाजपा ने लोकतंत्र का चीरहरण किया लेकिन आखिरकार उन्हें हार का ही सामना करना पड़। 

झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष ने सांसद असदुद्दीन की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिममीन (एआईएमआईएम) को भाजपा की बी टीम बताया और कहा कि एक साजिश के तहत अल्पसंख्यकों के वोटों का बिखराव करने के लिए ओवैसी को हैदराबाद से झारखंड भेजा जा रहा है। 

जनसभा को धनवार से महागठबंधन के प्रत्याशी निजामुद्दीन अंसारी, कांग्रेस नेता धनंजय सिंह, अजय सिंह और शफीक अंसारी समेत झामुमो के कई नेताओं ने संबोधित किया और हेमंत सोरेन के हाथों को मजबूत करने के लिए झामुमो को वोट देने की अपील की।
facebook twitter