+

राहुल का दावा- नरेंद्र मोदी देश के PM जरूर हैं, लेकिन कुछ लोगों के हाथ में है उनका ‘रिमोट कंट्रोल’

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को केंद्रीय कृषि कानूनों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री देश के किसानों की ‘‘इज्जत’’ नहीं करते और बार-बार बातचीत करके सिर्फ किसानों को थकाना चाहते हैं।
राहुल का दावा- नरेंद्र मोदी देश के PM जरूर हैं, लेकिन कुछ लोगों के हाथ में है उनका ‘रिमोट कंट्रोल’
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को केंद्रीय कृषि कानूनों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री देश के किसानों की ‘‘इज्जत’’ नहीं करते और बार-बार बातचीत करके सिर्फ किसानों को थकाना चाहते हैं। उन्होंने यह दावा भी किया कि नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री जरूर हैं, लेकिन ‘उनका रिमोट कंट्रोल’ कुछ पूंजीपतियों के पास है।
राहुल गांधी और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने शुक्रवार को जंतर-मंतर पहुंचकर, पंजाब से पार्टी के उन सांसदों के साथ एकजुटता प्रकट की जो पिछले करीब 40 दिनों से कृषि कानूनों के विरोध में धरने पर बैठे हैं। पंजाब से संबंध रखने वाले कांग्रेस के लोकसभा सदस्य जसबीर गिल, गुरजीत औजला, रवनीत सिंह बिट्टू और कुछ अन्य नेता कृषि कानूनों के खिलाफ खुले आसमान के नीचे धरना दे रहे हैं। उनकी मांग तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की है।
राहुल गांधी और प्रियंका कुछ देर तक पार्टी के इन सांसदों के साथ धरना स्थल बैठे और उनके साथ एकजुटता प्रकट की। इस मौके पर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने कहा, ‘‘मोदी जी ने भूमि अधिग्रहण कानून को रद्द करने की कोशिश की थी, उसे हमने रोका। अब यह नया कदम तीन कानूनों के तौर पर उठाया गया है। ये तीनों कानून किसानों को खत्म करने के कानून हैं।’’
उन्होंने कहा, ‘‘देश को आजादी 1947 में मिली, लेकिन इस आजादी को किसानों ने कायम रखा। जिस दिन खाद्य सुरक्षा खत्म होगी उस दिन आजादी चली जाएगी।’’ कांग्रेस नेता ने दावा किया, ‘‘एक तरफ हिंदुस्तान है और दूसरी तरफ मोदी जी के कुछ पूंजीपति मित्र हैं। देश के बहुत सारे लोगों को यह बात समझ नहीं आ रही है कि अगर आज किसान का हक छिना तो अगला नंबर मध्य वर्ग का होगा और फिर दूसरे लोग भी होंगे।’’
उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘मोदी जी कहते हैं कि देश को कोरोना से नुकसान हुआ। नुकसान कोरोना से पहले हुआ था। सच्चाई यह है कि मोदी जी और उनके दो-तीन उद्योगपति मित्र आप से सब छीन रहे हैं। ये ही कुछ उद्योगपति सब कुछ चला रहे हैं।’’ कांग्रेस नेता ने कहा कि किसानों को समझना पड़ेगा कि समय जाया किया जा रहा है और थकाया जा रहा है। 
राहुल गांधी ने आरोप लगाया, ‘‘मोदी जी किसानों की बुनियादी इज्जत नहीं करते हैं।.... एक किसान मरे, दो मरे, 100 मरे, नरेंद्र मोदी को कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है।’’उन्होंने दावा किया, ‘‘नरेंद्र मोदी जी समझते हैं कि किसान थक जाएगा और भाग जाएगा। मोदी जी, किसान नहीं भागने वाला है, आपको भागने पड़ेगा। आपको समझ जाना चाहिए कि ये हिंदुस्तान पीछे हटने वाला नहीं है। न किसान पीछे हटेंगे और न ही कांग्रेस पीछे नहीं हटने वाली है।’’ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने कहा कि पूरी ‘माया’ पैदा की गई और आने वाले समय में ये ‘माया’ टूटेगी।
एक सवाल के जवाब में राहुल गांधी ने आरोप लगाया, ‘‘नरेंद्र मोदी जी, देश के प्रधानमंत्री जरूर हैं, लेकिन उनका रिमोट कंट्रोल तीन-चार लोगों के पास है। उन पर दया आती है।’’ इससे पहले राहुल गांधी और प्रियंका कृषि कानूनों के खिलाफ उप राज्यपाल के निवास के निकट आयोजित कांग्रेस के विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए। इस मौके पर राहुल गांधी ने कहा, ‘‘कांग्रेस किसानों के साथ खड़ी है। सरकार को ये तीनों कानून वापस लेने होंगे। सरकार जब तक ये कानून वापस नहीं लेगी तब तक कांग्रेस पीछे नहीं हटने वाली है।’’
उल्लेखनीय है कि केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ कांग्रेस ने शुक्रवार को ‘किसान अधिकार दिवस’ मनाया। इसके तहत पार्टी के नेताओं एवं कार्यकर्ताओं ने प्रदेश मुख्यालयों पर धरना-प्रदर्शन किया और राज्यपालों एवं उप राज्यपालों को ज्ञापन सौंपें। मुख्य विपक्षी पार्टी ने आंदोलनकारी किसानों के समर्थन में ‘स्पीकअप फॉर किसान अधिकार’ हैशटैग से सोशल मीडिया अभियान भी चलाया। 

कृषि कानूनों के खिलाफ सड़क पर उतरे राहुल - प्रियंका, कई अन्य नेताओं ने प्रदर्शन किया

facebook twitter instagram