+

देश में कोरोना प्रसार के लिए ओमप्रकाश राजभर ने ‘नमस्ते ट्रंप’ कार्यक्रम को बताया जिम्मेदार

देश में कोरोना प्रसार के लिए ओमप्रकाश राजभर ने ‘नमस्ते ट्रंप’ कार्यक्रम को बताया जिम्मेदार
शिवसेना नेता संजय राउत के बाद सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने भी देश में कोरोना के प्रसार के लिए ‘नमस्ते ट्रंप’ कार्यक्रम को जिम्मेदार बताया है। उन्होंने सीधा-सीधा कोरोना प्रसार के लिए बीजेपी सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए दावा किया कि देश में महामारी अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के दौरे की देन है।
राजभर ने संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि देश में जब कोरोना दस्तक दे रहा था तब मोदी सरकार और बीजेपी अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के स्वागत तथा मध्य प्रदेश में खरीद-फरोख्त के जरिए बीजेपी सरकार बनाने में व्यस्त थी। उन्होंने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भारत में कोरोना महामारी लेकर आए।
उन्होंने कहा कि अहमदाबाद में आयोजित ‘नमस्ते ट्रंप’ कार्यक्रम में उनके साथ हजारों लोग आये थे जिनकी कोई जांच नहीं की गई  30 जनवरी को केरल में जब कोरोना का पहला मामला सामने आया था तभी देश के सभी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों को सील कर दिया गया होता तो कोरोना अपने देश में भयावह शक्ल नही लेता।

संजय राउत ने 'नमस्ते ट्रंप' कार्यक्रम को बताया देश में कोविड-19 फैलने के लिए जिम्मेदार

उन्होंने कहा, “देश में गत 15 जनवरी से 23 मार्च तक विदेश से 78 लाख लोग आए हैं लेकिन केवल 26 लाख की ही जांच हुई, शेष लोग बगैर जांच के घूम रहे हैं एवं कोरोना वायरस फैला रहे हैं। देश एक तरफ़ कोरोना से जूझ रहा है वहीं बीजेपी सरकारों में कोरोना की आड़ में घोटाले हो रहे हैं।” 
राजभर ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर तंज कसते हुए कहा कि उनके पास श्रावण मास के दौरान कांवरियों के लिए शर्बत का प्रबंध करने एवं उनसे मिलने के लिए समय है लेकिन प्रदेश लौटकर आ रहे कामगारों के लिए कोई समय नहीं है। उन्होंने आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश में नौकरशाह सरकार चला रहे हैं तथा मुख्यमंत्री कठपुतली बने हुए हैं। 
मुख्यमंत्री नौकरशाहों के साथ बैठक कर निर्णय लेते हैं लेकिन इस बैठक में दोनों उप मुख्यमंत्रियों में से कोई उपस्थित नहीं रहता। राजभर ने दावा किया कि मुख्यमंत्री के अधिकारियों से किसी जन प्रतिनिधि को तबज्जो न देने के बयान के कारण सूबे में अधिकारियों की मनमानी और भ्रष्टाचार काफी बढ़ गया है।
facebook twitter