+

SCO Summit 2022: भारत-पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की होगी मुलाकात, 6 साल बाद दिखेगा ये नजारा

उज्बेकिस्तान में भारत और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री करीब 6 साल बाद एक दूसरे से मिलेंगे। काफी समय बाद ऐसा होगा की भारत-पाकिस्तान के प्रधानमंत्री एक ही छत के नीचे होंगे। जानकारी के अनुसार उज्बेकिस्तान के समरकंद में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के शिखर सम्मेलन के दौरान भारत और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और शहबाज शरीफ के बीच बैठक होने की संभावना है।
SCO Summit 2022:  भारत-पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की होगी मुलाकात, 6 साल बाद दिखेगा ये नजारा
उज्बेकिस्तान में भारत और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री करीब छह साल बाद एक दूसरे से मिलेंगे। काफी समय बाद ऐसा होगा की भारत-पाकिस्तान के प्रधानमंत्री एक ही छत के नीचे होंगे। जानकारी के अनुसार उज्बेकिस्तान के समरकंद में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के शिखर सम्मेलन के दौरान भारत और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और शहबाज शरीफ के बीच बैठक होने की संभावना है। 
दोनों देश एससीओ बैठक में करेंगे शिरकत 
राजनयिक सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ और भारत के पीएम मोदी  28 जुलाई की बैठक में शामिल होंगे। एक रिपोर्ट में बताया गया है  कि एससीओ( SCO ) शिखर सम्मेलन 15-16 सितंबर के लिए निर्धारित है, जहां संगठन के नेता क्षेत्रीय चुनौतियों पर चर्चा करने के लिए एक साथ बैठक करेंगे। इस सम्मेलन में  शहबाज शरीफ चीन, रूस, ईरान और  पीएम मोदी से भी मिल सकते हैं। 
पडोसी देश का मीडिया भी दे रहा हवा 
पडोसी देश पाकिस्तान का मीडिया भी इस बात को काफी उछाल रहा है। पाकिस्तानी मीडिया का कहना है कि छह साल में यह पहली बार है जब दोनों देशों के प्रधानमंत्री एक ही छत के नीचे मौजूद होंगे। अगर भारत बातचीत के लिए आगे बढ़ाता है तो पाकिस्तान भी इसमें दिलचस्पी दिखाएगा। बता दे कि एससीओ के पूर्ण  सदस्यों में चीन, पाकिस्तान, रूस, भारत, ताजिकिस्तान, उज्बेकिस्तान, किर्गिस्तान और कजाकिस्तान शामिल हैं। 
बिलावल भुट्टो का बड़ा बयान 
 इसी बीच पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो ने भी इस बैठक को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दी है।  बिलावल भुट्टो ने कहा कि पाकिस्तानी और भारतीय नेताओं के बीच द्विपक्षीय बैठक अभी निर्धारित नहीं है। 
कश्मीर को लेकर विवाद 
भारत- पाकिस्तान के रिश्ते काफी सालों से खराब चल रहे हैं। दोनों देशों ने कई बार बात करने की कोशिश की लेकिन हर बार कोई निष्कर्ष नहीं निकल पाया। पाकिस्तान लगातार पीओके( POK) के पास भारतीय सीमा पर लगातार सीजफायर का उल्लंघन रहता है। जम्मू -कश्मीर में पाकिस्तान में भी पाकिस्तान का हाथ हमेशा रहता है। पाकिस्तान कश्मीर को लेकर भी हमेशा से जहर उगलता रहा है। 

होम :
facebook twitter instagram