शतावरी जड़ी बूटी के ये जबरदस्त फायदे, उम्र ढलने पर भी रहती है ग्लोइंग स्किन

इस भागदौड़ भरी जिंदगी में समय से पहले ही लोगों में बुढ़ापा आ गया है। हालांकि इसके पीछे पॉल्यूशन और खान-पान में मिलावट भी बड़ा कारण है। इसका सबसे बुरा असर त्वचा पर हो रहा है। 


स्किन बेजान और रूखी इस वजह से होती जा रही है। शतावर नाम की एक जड़ी बूटी आती है जिसका सेवन करने से आप इस समस्या से बच सकते हैं। स्किन के साथ-साथ ये बाकी समस्या को भी दूर करता है। चलिए जानते हैं इस जड़ी बूटी के फायदों के बारे में-


1. गुलाब जल में शतावर जड़ी बूटी के पाउडर को मिलाकर चेहरे पर लगाने से वह क्नीनजर के तौर पर काम करता है। झाइयां एवं काले दाग शतावर  जड़ी बूटी का सेवन करने से दूर होते हैं। 
2. शतावर पाउडर को दूध में मिलाकर उसके पेस्ट को मुहासों पर लगाना चाहिए। मुहासों में बैक्टीरिया को वह खत्म करते हैं और चेहरे से मुहासों को ठीक करते हैं। 


3. घावों को भी शतावर ठीक करता है। शतावर में एंटीऑक्सिडेंट एवं ग्लूटाथियोन होता है जो सूरज की अल्ट्रा वॉयलट किरणों और प्रदूषण के पार्टिकल्स से त्चचा को बचाता है। 
4. उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को भी शतावर जड़ी बूटी धीरे कर देती है। इसमें एंटीऑक्सिडेंट और ग्लूटाथियोन नाम के तत्व होते हैं। एक गिलास दूध के साथ हर रोज रात को एक चम्मच शतावर पाउडर खाने से स्किन टाइट होती है। 


5.फोलेट तत्व की मात्रा शतावर में बहुत होती है। विटामिन बी 12 की कमी शरीर में यह पूरी करता है। 
6. अगर किसी को शारीरिक कमजोरी है तो शतावर उसमें भी फायदेमंद है। आधा चम्मच शतावर पाउडर सुबह या रात को गुनगुने दूध के साथ लेने पर बाकी शारीरिक कमियां दूर हो जाती हैं। इसका सेवन रोजाना करना होता है। 


7. पांच ग्राम मात्रा शतावर चूर्ण और मिश्री को एक साथ पीसकर गाय के दूध के साथ लेने से शरीर में ताकत आती है। इसके अलावा शरीर में खून की कमी को भी दूर करता है। 
8. शतावर चूर्ण को आधा चम्मच गोखरु पाउडर के साथ लेने से मूत्राशय संबंधित परेशानियां दूर होती हैं। पेशाब में जलन,खून आना आदि इसका सेवन करने से ये परेशानियां दूर हो जाती हैं। 


9. सल्फोराफेन नाम का तत्व शतावर में होता है जो कैंसर से बचने में सहायक होता है। 
10. एंटीऑक्सिडेंट और एंटी-इन्फ्लमाट्री तत्व शतावर में पाए जाते हैं। साथ ही घुलनशील फाइबर भी इसमें पाया जाता है। 
Tags : Chhattisgarh,Punjab Kesari,जगदलपुर,Jagdalpur,Sanctuaries,Indravati National Park