+

टेरर फंडिग जांच की जद में इस्लामिक संगठन 'फलाह-ए-आम' ट्रस्ट के कार्यालयों पर एसआईए का छापा

जम्मू-कश्मीर पुलिस की विशेष जांच एजेंसी (एसआईए) ने मंगलवार को बारामूला और श्रीनगर जिलों में जमात-ए-इस्लामी संचालित 'फलाह-ए-आम' ट्रस्ट के कार्यालयों पर छापेमारी की।
टेरर फंडिग जांच की जद में इस्लामिक संगठन 'फलाह-ए-आम' ट्रस्ट के कार्यालयों पर एसआईए का छापा
जम्मू-कश्मीर पुलिस की विशेष जांच एजेंसी (एसआईए) ने मंगलवार को बारामूला और श्रीनगर जिलों में जमात-ए-इस्लामी संचालित 'फलाह-ए-आम' ट्रस्ट के कार्यालयों पर छापेमारी की। एसआईए सूत्रों ने बताया कि ये छापेमारी टेरर फंडिंग के एक मामले में की जा रही है। इन छापेमारी में पुलिस ने एसआईए की मदद की। सूत्रों ने बताया कि ये छापेमारी बारामूला जिले के सोपोर कस्बे और श्रीनगर जिले के नौगाम इलाके में स्थित फलाह-ए-आम ट्रस्ट के दफ्तरों में की गई।
आपको बता दे की फलाह- ए- आम '  के सभी स्कूल इस्लामिक शिक्षा के लिए संचालित किए जाते हैं, जिसके जरिए आतंकवाद को पोषिक किया जाता हैं, पूर्व में भी यह सभी स्कूल आतंकवाद की जांच की जद में पाए गए थे । 
इस्लामिक जिहादी संगठन द्वारा संचालित किए जाते हैं स्कूल 
 फलाह ए आम ट्रस्ट के सभी स्कूल पाकिस्तान में स्थित जमात ए इस्लामी के द्वारा चलाया जाता हैं, जिनके द्वारा आतंकवाद को फैलाने के लिए भारी रकम का प्रदान किया जाता हैं। जमात ए इस्लामी संगठन आतंकवाद का हिमायती हैं जिसने कश्मीर में काफी प्रसार कर रखा हैं, इस्लामी संगठन कश्मीर में रक्तपात करने के लिए बच्चों का दिमाग में अर्नगल बातों
13 जून को सरकार ने ट्रस्ट के सभी स्कूलों को बंद करने का दिया था आदेश 
जम्मू कश्मीर सरकार ने 13 जून को प्रदेश में जमात-ए-इस्लामी के ट्रस्ट फलाह-ए-आम द्वारा संचालित सभी स्कूलों को बंद करने का आदेश जारी किया था। सरकार के इस फैसले को लेकर प्रदेश में विशेषकर वादी में विभिन्न राजनीतिक दलों ने सियासी मुद्दा बनाने की कोशिशें शुरू कर दी है। सभी अलग-अलग दावे करते हुए कह रहे हैं कि 10 हजार से ज्यादा छात्रों का भविष्य खतरे में पड़ गया है, एक हजार से ज्यादा अध्यापक और अन्य कर्मियों के लिए रोजी-रोटी का संकट पैदा हो गया है।

 
facebook twitter instagram