+

हरियाणा की मंडियों में भारत बंद के समर्थन में 26 मार्च को रहेगी हड़ताल

हरियाणा प्रदेश व्यापार मंडल के प्रांतीय अध्यक्ष व अखिल भारतीय व्यापार मंडल के राष्ट्रीय महासचिव बजरंग गर्ग ने कहा है कि तीन कृषि कानून के विरोध में किसान संगठनों के 26 मार्च को भारत बंद के आह्वान पर हरियाणा की सभी मंडियों में भी हड़ताल रहेगी।
हरियाणा की मंडियों में भारत बंद के समर्थन में 26 मार्च को रहेगी हड़ताल
हरियाणा प्रदेश व्यापार मंडल के प्रांतीय अध्यक्ष व अखिल भारतीय व्यापार मंडल के राष्ट्रीय महासचिव बजरंग गर्ग ने कहा है कि तीन कृषि कानून के विरोध में किसान संगठनों के 26 मार्च को भारत बंद के आह्वान पर हरियाणा की सभी मंडियों में भी हड़ताल रहेगी। गर्ग ने कहा कि तीन नए कृषि कानूनों से देश का किसान ही नहीं आढ़ती व मजदूर भी बर्बाद हो जाएगा। 
कृषि कानून के तहत देश व प्रदेश में प्राइवेट मंडियां बनेंगी। प्राइवेट मंडियां बनने से धीरे-धीरे करके सरकारी मंडियां बंद हो जाएंगी। जब देश व प्रदेश में प्राइवेट मंडियां बनेगी तो किसान की फसल एमएसपी रेटों पर कौन खरीदेगा। किसान आंदोलन को व्यापार मंडल का खुला समर्थन है। किसान व व्यापारी का चोली दामन का साथ है। किसान के खेत में दाने होंगे तो ही देश में व्यापार चलेगा और अर्थव्यवस्था मजबूत होगी।
उनके अनुसार कृषि कानून किसान, आढ़ती, मजदूर व आम जनता के हित में नहीं है। कृषि कानून से बड़-बड़ कंपनियां सब्जी व फलों की तरह अनाज का स्टॉक करके देश में पहले से कई गुणा ज्यादा महंगाई को बढ़वा देगी। कृषि कानून में अनाज की स्टॉक सीमा समाप्त करके सरकार जमाखोरी को बढ़वा देने के साथ-साथ भ्रष्टाचार को बढ़वा देने जा रही है जो किसी भी तरह देश हित में नहीं है।
उन्होंने कहा कि सरकार को हर अनाज की खरीद मंडी के आढ़तियों के माध्यम से करनी चाहिए और फसल का भुगतान पहले की तरह आढ़तियों के माध्यम से ही करना चाहिए। सरकार व्यापारी व किसानों का भाईचारा खराब करने के लिए नए-नए नियम बनाने में लगी हुई है। अगर सरकार ने अनाज की खरीद व उसका भुगतान आढ़तियों के माध्यम से नहीं किया तो हरियाणा के सभी आढ़ती अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे। 
जब सरकार ने हरियाणा मार्केटिंग बोर्ड बनाया हुआ है और सरकारी अनाज मंडियां बनाई हुई हैं तो अगर अनाज की खरीद व भुगतान आढ़तियों के माध्यम से नहीं होगा तो आढ़ती मंडी में दुकान करके क्या करेगा। यह बहुत बड़ चिंता का विषय है। गर्ग ने प्रधानमंत्री नरेंद, मोदी से जिद्द छोड़कर देश के किसान, आढ़ती व आम जनता के हित में तीन कृषि कानूनों को तुरंत वापिस लेने की अपील की।
facebook twitter instagram