+

कर्नाटक में खत्म हुआ मुख्यमंत्री पर सस्पेंस, बसवराज बोम्मई होंगे अगले CM

कर्नाटक के मुख्यमंत्री की कुर्सी पर अब बसवराज बोम्मई बैठेंगे। भारतीय जनता पार्टी विधायक दल की बैठक में उन्हें कर्नाटक का अगला मुख्यमंत्री बनाने का फैसला किया गया।
कर्नाटक में खत्म हुआ मुख्यमंत्री पर सस्पेंस, बसवराज बोम्मई होंगे अगले CM
कर्नाटक मेें पूर्व मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा के सोमवार को इस्तीफा दिए जाने के बाद सस्पेंस बना हुआ था कि आखिर कौन अगला मुख्यमंत्री होगा। तो इसका निर्णय आखिरकार हो ही गया। कर्नाटक के मुख्यमंत्री की कुर्सी पर अब बसवराज बोम्मई बैठेंगे। भारतीय जनता पार्टी विधायक दल की बैठक में उन्हें कर्नाटक का अगला मुख्यमंत्री बनाने का फैसला किया गया।
आपको बता दें कि बोम्मई येदियुरप्पा सरकार में गृह मंत्री थे। येदियुरप्पा के इस्तीफे के बाद जिन नामों को लेकर कयास लगाए जा रहे थे, उनमें बोम्मई का नाम सबसे आगे था। गृह मंत्री के सा साथ-साथ बोम्मई कर्नाटक सरकार में संसदीय कार्य मंत्री और कानून मंत्री भी हैं। वह लिंगायत समुदाय से ताल्लुक रखते हैं।
भाजपा ने लिंगायत समुदाय से मुख्यमंत्री बनाने का फैसला किया। पार्टी ने इसके लिए आज पर्यवेक्षक के रूप में केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान और जी किशन रेड्डी को बेंगलुरु भेजा था। दोनों ने देर शाम पार्टी के विधायकों के साथ बैठक की, जिसमें बोम्मई के नाम पर आम सहमति बनी। आपको बता दें कि राज्य के जातीय समीकरणों में लिंगायत समुदाय से मुख्यमंत्री बनाने की तैयारी की जा रही थी।
हालांकि कहा जा रहा था कि येदियुरप्पा किसी और समुदाय को यह पद देने के इच्छुक थे। येदियुरप्पा खुद लिंगायत समुदाय से आते हैं और इस समाज के सबसे बड़े मठ का समर्थन उनको हासिल था। सूत्रों के अनुसार, येदियुरप्पा के बेटे वाय बी विजयेंद्र को भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बनाया जा सकता है। विजयेंद्र अभी उपाध्यक्ष हैं। इसके अलावा सीएम पद के लिए ब्राह्मण समुदाय से आने वाले संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी, विश्वेश्वरा हेगड़े कगेरी का नाम चर्चा की भी चर्चा थी। लिंगायत समुदाय से ही आने वाले मुरगेश निरनई का नाम भी रेस में था।
ज्ञात हो कि इससे पहले येदियुरप्पा कर्नाटक के प्रभावशाली लिंगायत समुदाय से आते हैं। ऐसी चर्चा है कि लिंगायत समुदाय के ही किसी प्रभावशाली नेता को मुख्यमंत्री पद की कमान सौंपने पर भाजपा में विचार चल रहा है। येदियुरप्पा के संभावित उत्तराधिकारी के रूप में जिन नामों की चर्चा चल रही है, उनमें केंद्रीय मंत्री प्रल्हाद जोशी, भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव सी टी रवि, बी एल संतोष और राज्य विधानसभा के अध्यक्ष विश्वेश्वर हेगड़े कागेरी शामिल हैं।

facebook twitter instagram