स्वामी चिन्मयानंद ने अदालत से रंगदारी मांगने वालो पर गैंगस्टर एक्ट लगाने की मांग की

यौन शोषण के मामले में जेल में बंद पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद ने सोमवार को एक पत्र भेजकर पुलिस अधीक्षक से पांच करोड़ की रंगदारी मांगने के आरोपी बलात्कार पीड़िता समेत चारों आरोपियों पर गैंगेस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की मांग की।

उधर, उनके अधिवक्ता ने भी सीजेएम के न्यायालय में प्रार्थना पत्र देकर रंगदारी मांगने के आरोपियों पर गैंगस्टर एक्ट लगाने की मांग संबंधी इस प्रार्थना पत्र को स्पेशल कोर्ट में स्थानांतरित करने का अनुरोध किया। स्वामी चिन्मयानंद की सुप्रीम कोर्ट की अधिवक्ता पूजा सिंह ने यहां बताया कि सीजेएम ओमवीर सिंह की अदालत में उन्होंने गैंगस्टर एक्ट लगाने के लिए जो प्रार्थना पत्र दिया था उस पर सुनवाई होने के बाद आदेश को सुरक्षित रख लिया गया है। 

जेल अधिकारी ने बताया कि स्वामी चिन्मयानंद ने उन्हें एक पत्र दिया है जिसमें उनसे पांच करोड़ की रंगदारी मांगने वाले आरोपियों पर गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की मांग की गयी। यह पत्र विभागीय डाक से पुलिस अधीक्षक शाहजहांपुर के पास भेज दिया गया है। 

पूजा सिंह ने यहां पीटीआई भाषा को बताया कि उन्होंने यहां सीजेएम अदालत में एक प्रार्थना पत्र दिया है जिसमें कहा गया है कि रंगदारी मांगने के आरोपियों पर गैंगस्टर लगाया जाना चाहिए । उसमें यह अनुरोध भी किया गया है कि न्यायालय इसे गैंगस्टर एक्ट की सुनवाई के लिए स्पेशल कोर्ट को भेजे। 

चिन्मयानंद ने लिखा है कि वह नौ अगस्त को अपने आवास पर बैठे थे तभी सचिन सेंगर उनके पास आया और उनसे कहा कि आपकी प्रतिष्ठा धूमिल करने के उसके पास पूरे साक्ष्य हैं आप पांच करोड रुपए दो, नहीं तो आपके विरुद्ध झूठा मुकदमा दर्ज करा दिया जाएगा। 

चिन्मयानंद द्वारा भेजे गये पत्र में कहा गया है कि आरोपी संजय विक्रम सचिन तथा पीड़िता को रंगदारी मामले मेंएसआईटी ने दोषी पाया है जिन्हें जेल भी भेजा जा चुका है। उन्होंने एसआईटी के प्रेस नोट का हवाला देते हुए कहा कि उक्त चारों आरोपियों के अलावा अन्य लोग भी गिरोह बनाकर इस मामले में संलिप्त हो कर अपराध कर रहे हैं। 

पत्र में उन्होंने आरोपी की मां को भी अपराधिक एवं असामाजिक गतिविधियों में संलिप्त बताई है साथ ही पीड़िता के पिता पर दो मुकदमे का विवरण तथा संजय पर थाना तिलहर में दर्ज हत्या के प्रयास समेत दो मुकदमों का विवरण दिया है। उन्होंने आरोपियों पर गैंगेस्टर एक्ट लगाने की मांग की है। 

गौरतलब है कि स्वामी चिन्मयानंद पर उन्हीं के कालेज में पढ़ने वाली एक छात्रा ने वीडियो वायरल करके यौन शोषण का आरोप लगाया था। उसके बाद पीड़िता लापता हो गई थी। पीड़िता की ओर से स्वामी चिन्मयानंद पर गंभीर आरोप लगाए गए थे । उधर, चिन्मयानंद के अधिवक्ता ने पांच करोड़ रंगदारी मांगने का मुकदमा दर्ज कराया था जिसमें पीड़िता समेत चार आरोपियों को विशेष जांच दल (एसआईटी) ने जेल भेज दिया है। योन शोषण के मामले में स्वामी चिन्मयानंद भी जेल में बंद है । 
Tags : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी,Prime Minister Narendra Modi,कर्नाटक विधानसभा चुनाव,Karnataka assembly elections,यशवंतरपुर सीट,Yashvantpur seat ,Swami Chinmayananda,court,hearing,CJM Omvir Singh