+

देश का विदेशी मुद्रा भंडार 35.3 करोड़ डॉलर से घटकर 541.66 अरब डॉलर पर पहुंचा

विदेशी मुद्रा भंडार में कमी की प्रमुख वजह विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियों (एफसीए) में गिरावट आना है। यह कुल विदेशी मुद्रा भंडार का एक अहम अंग होता है। इस दौरान एफसीए 84.1 करोड़ डॉलर घटकर 497.52 अरब डॉलर रह गया।
देश का विदेशी मुद्रा भंडार 35.3 करोड़ डॉलर से घटकर 541.66 अरब डॉलर पर पहुंचा
देश का विदेशी मुद्रा भंडार पिछले हफ्ते अपने सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंचने के बाद 11 सितंबर को समाप्त सप्ताह में 35.3 करोड़ डॉलर घटकर 541.66 अरब डॉलर पर आ गया। भारतीय रिजर्व बैंक के आंकड़ों में यह बात सामने आयी है। 

इससे पहले चार सितंबर को समाप्त सप्ताह में देश का विदेशी मुद्रा भंडार 58.2 करोड़ डॉलर बढ़कर 542.01 अरब डॉलर रहा था। समीक्षावधि में विदेशी मुद्रा भंडार में कमी की प्रमुख वजह विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियों (एफसीए) में गिरावट आना है। यह कुल विदेशी मुद्रा भंडार का एक अहम अंग होता है। इस दौरान एफसीए 84.1 करोड़ डॉलर घटकर 497.52 अरब डॉलर रह गया। 

डॉलर में दर्शाए गए एफसीए की कमी में यूरो, पौंड और येन जैसी अन्य वैश्विक मुद्राओं का उतार-चढ़ाव भी शामिल है। समीक्षाधीन सप्ताह में देश का कुल स्वर्ण भंडार 49.9 करोड़ डॉलर बढ़कर 38.02 अरब डॉलर हो गया। 

इसके अलावा अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष से मिला विशेष आहरण अधिकार (एसडीआर) 10 लाख डॉलर घटकर 1.482 अरब डॉलर हो गया। मुद्रा कोष के पास जमा देश का विदेशी मुद्रा भंडार 1.1 करोड़ डॉलर घटकर 4.637 अरब डॉलर रहा। 

facebook twitter