+

करवा चौथ का व्रत होता है बहुत पावन,इन 3 महिलाओं को नहीं करना चाहिए व्रत

करवाचौथ का व्रत महिलाएं पति की लंबी उम्र की कामना के साथ रखती हैं।इस दिन चंद्र दर्शन के बाद ही व्रत खोला जाता है।
करवा चौथ का व्रत होता है बहुत पावन,इन 3 महिलाओं को नहीं करना चाहिए व्रत
करवाचौथ का व्रत महिलाएं पति की लंबी उम्र की कामना के साथ रखती हैं।इस दिन चंद्र दर्शन के बाद ही व्रत खोला जाता है।हर साल कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि के दिन सुहागिन महिलाएं पवित्र करवा चौथ का व्रत रखती है। यह व्रत पति की लम्बी आयु और परिवार के कल्याण के लिए रखा जाता है। इस वर्ष करवा चौथ व्रत 13 अक्टूबर 2022 को रखा जाएगा। इस दिन महिलाएं चंद्रोदय तक निर्जला उपवास रखती हैं और फिर चन्द्रमा के दर्शन के बाद ही व्रत तोड़ती हैं।कुछ महिलाओं को करवा चौथ का व्रत नहीं करना चाहिए। आइए जानते हैं किन महिलाओं को करवा चौथ का व्रत नहीं करना चाहिए...

गर्भवती महिलाएं ना रखें व्रत - क्योंकि इस व्रत में पूरे दिन निर्जल रहना पड़ता हैं और
गर्भावस्था में आपके खानपान के ऊपर ही आपका और आपके शिशु का स्वास्थ्य निर्भर होता है। इसलिए आपको इस दौरान किसी भी तरह का व्रत नहीं रखना चाहिए और डॉक्टर द्वारा बताए गए अंतराल पर हेल्दी फूड खाना चाहिए।वहीं, स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भी व्रत रखने से बचना चाहिए।

ऐसी लड़कियां जिनकी शादी तय हो गई है या जो अपने प्रेमी के लिए करवा चौथ का व्रत रख रही हैं, उनके लिए भी व्रत करना उचित नहीं है। दोनों ही स्थितियों में वे ना तो सोलह श्रृंगार कर पाएंगी और ना ही वे बिना वैवाहिक रस्‍मों के उन्‍हें अपना पति मान पाएंगी।फेरे होने के बाद ही पत्‍नी अपने पति के लिए व्रत रख सकती है।

जो महिलाएं काफी लंबे समय  से अपने पति से दूर रह रही है और  उनके मन में किसी पराये पुरुष ने अपनी जगह बना ली या जो महिला अपने पति से तलाक ले चुकी है ।इन महिलाओं को ये व्रत नहीं रखाना चाहिए।
facebook twitter instagram