+

'राय बुलार' के वंशज को मोदी सरकार ने नही दिया वीज़ा

'राय बुलार' के वंशज को मोदी सरकार ने नही दिया वीज़ा
लुधियाना : श्री गुरूनानक साहब के पहले सिख भाई 'राय बुलार' के वंशज, 'राय सलीम अतर भटटी' को भारत सरकार ने भारत में दाखिल होने का वीजा जारी करने से एक बार फिर इंकार कर दिया। इस बारे में जानकारी देते हुए राय सलीम अतर भटटी ने बताया कि वे दुनिया के रूहानियत केंद्र सचखंड श्री दरबार साहिब के दर्शन करने की बेहद इच्छा रखते है। उनकी इस यात्रा में भाई राय बुलार की तस्वीर भी केंद्रीय सिख अजायब घर अमृतसर में लगवानी थी। उनको बिना किसी कारण से वीजा जारी करने से इंकार किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि 30 जुलाई को श्री ननकाना साहिब में श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह, शिरोमणि कमेटी के प्रधान भाई गोबिंद सिंह लोंगोवाल, मुख्य सचिव डॉ रूप सिंह के अलावा बीते दिनों श्री परमजीत सिंह सरना के साथ आएं अमृतसर के सांसद स. गुरजीत सिंह औजला समेत पंजाब सरकार और कई मंत्रियों को मिलकर भारत आने के लिए वीजा जारी करवाने में मदद करने की अपील कर चुके है, लेकिन बिना किसी कारण भारत सरकार उन्हें भारत आने के लिए वीजा जारी करने से इंकार कर देती है।

इससे पहले भी उन्होंने एक बार वीजा देने से भारत के इस्लामाबाद स्थित भारतीय दूतावास ने इंकार किया था। उन्होंने कहा कि वे पेशे से वकील है और जिम्मेदार नागरिक है। उनकी इच्छा है कि एक बार श्री दरबार साहिब के दर्शन करने और अपने बुजुर्गो की तस्वीर सिखों के सबसे बड़े अजायबघर में लगवाना है। उन्होंने मांग की कि उनको भारत आने की इजाजत दी जाएं।
facebook twitter