शुक्रवारी अमावस्या की रात को ये तांत्रिक उपाय कर लेने कभी नहीं होगी धन हानि

आज 24 जनवरी यानी शुक्रवार के दिन माघ मास की अमावस्या है। इस दिन शुक्रवार होने की वजह से इस दिन का खास महत्व है। क्योंकि शुक्रवार का दिन धन की देवी माता महालक्ष्मी की अराधना करने के लिए विशेष दिन माना जाता है। यदि शुक्रवार के दिन अमावस्या तिथि पड़ जाए तो इस मौके पर सोने पर सुहागा जैसा महत्व शास्त्रों में बताया गया है। यदि इस अमावस्या को धन प्राप्ति के लिए कुछ जरूरी उपाय कर लिए जाए तो भी व्यक्ति के जीवन की सभी परेशानियों का निवारण होने लगता है। 


शुक्रवार को करें ये तांत्रिक उपाय:

धर्म शास्त्रों में गाय माता को देवी कामधेनु की संज्ञा दी गई है और हिंदू धर्म में तैतीस कोटि देवी देवताओं का निवास स्थान मानकर पूजा की जाती है। यदि आप चाहते हैं कि आपके घर में भी धन और अन्न दोनों की कभी कमी न हो तो शुक्रवार माघ मास की अमावस्या तिथि के दिन अपने घर में बनी सबसे पहली रोटी घर की सबसे छोटी कन्या के हाथों से गाय को खिलवा दें। ऐसा कर लेने से उपायकर्ता के घर मां लक्ष्मी का वास हमेशा बना रहेगा साथ ही घर परिवार की दरिद्रता हमेशा के लिए दूर हो जाएगी। 


शुक्रवार अमावस्या के दिन जरूर करें दान:

शुक्रवार अमावस्या के दिन अपनी सामथ्र्य के मुताबिक गरीबों और असहाय लोगों की सेवा सहायता जरूर करें साथ ही उनको भोजन करवाएं। ऐसा कर लेने से भौतिक सुख साधनों की प्राप्ति होती है।


करें विष्णु भगवान की पूजा:

माता लक्ष्मी भगवान श्री विष्णु जी की आर्धांगिनी है। इस दिन मां लक्ष्मी के साथ भगवान विष्णु की भी पूजा अर्चना करने से उनकी कृपा आप जल्दी ही प्राप्त कर सकते हैं। शुक्रवार वाली अमावस्या के दिन मध्य रात्रि में दक्षिणावर्ती शंख में जल भरकर भगवान विष्णु का आप अभिषेक करें ऐसा करने से स्वयं लक्ष्मीनारायण आपके घर निवास करने लगते हैं। 


गाय के घी का दीपक जलाएं:

शुक्रवार अमावस्या के दिन सूर्यास्त के बाद घर की पूजा वाली जगह या आंगन में गाय के  घी का दीपक अवश्य जलाएं। ध्यान रहे ये दीपक 7 बत्ती वाला होना चाहिए और लक्ष्मी श्रीयंत्र का गाय के दूध से अभिषेक करके उस दूध का सिंचन पूरे घर में भी करें। इस उपाय को कर लेने से आपको दरिद्रता से हमेशा के लिए मुक्ति मिल जाएगी। 



Tags : Chhattisgarh,Punjab Kesari,जगदलपुर,Jagdalpur,Sanctuaries,Indravati National Park ,Magh