+

हादसों को रोकने के लिए रेल पटरियों के नजदीक लगाई जाएं कंटीली तार –सिद्धू

लुधियाना-अमृतसर : पंजाब के सभ्याचार मामलों के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू जो पिछले दिनों विजय दशमी पर्व पर अमृतसर के नजदीक जोड़ा पुल पर हुए रेल हादसे के कारण विपक्ष विशेषकर अकाली-भाजपा नेताओं के निशाने पर है, ने आज रेलमंत्री पीयूष गोयल को एक खत लिखा है। इस खत में नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा […]
हादसों को रोकने के लिए रेल पटरियों के नजदीक लगाई जाएं कंटीली तार –सिद्धू

लुधियाना-अमृतसर : पंजाब के सभ्याचार मामलों के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू जो पिछले दिनों विजय दशमी पर्व पर अमृतसर के नजदीक जोड़ा पुल पर हुए रेल हादसे के कारण विपक्ष विशेषकर अकाली-भाजपा नेताओं के निशाने पर है, ने आज रेलमंत्री पीयूष गोयल को एक खत लिखा है।

इस खत में नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि मीडिया रिपोर्टाे के मुताबिक उत्तर भारत में पिछले 2 साल के दौरान हुए रेल हादसों में 50,000 से अधिक लोग मारे जा चुके है, जोकि चिंताजनक और दुखदायी है। उन्होंने कहा कि हमें मानव जीवन को बचाने के लिए उचित कदम उठाने चाहिए, ताकि ऐसे हादसे ना घटित हो। इसके साथ ही सिद्धू ने कहा कि रेल पटरियों के साथ-साथ दोनों तरफ ऊंची कंटीली तार लगाई जाएं, विशेषकर घनी आबादी वाले शहरी क्षेत्रों में ताकि ऐसी घटनाओं को घटित होने से रोका जा सकें।

ट्रेन हादसे के दौरान घायल 46 लोग अस्पतालों में उपचाराधीन

सिद्धू ने मुंबई और पूणे का जिक्र करते हुए कहा कि जिस प्रकार घनी आबादी हाईवे को कवर किया गया है, उस प्रकार यहां भी कवर होना चाहिए। उन्होंने अपने खत के जरिए रेलमंत्री को सुझाव देते हुए यह भी कहा कि ऐसे दुर्घटना वाले संभावित स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगाएं जाने चाहिए और साथ ही रेलवे ट्रेक पर पैट्रोलिंग हो।

सिद्धू ने कहा कि रेल ऐसे सिस्टम विकसित करें, जो किसी पटरी के नजदीक आते ही चौकस कर दें। सिद्धू ने अपनी तरफ से पेशकश करते हुए कहा कि अगर उनकी तरफ से किसी भी प्रकार की मदद की जरूरत है, तो बताई जाएं ताकि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह से बातचीत करके इस बारे में विस्तार से अध्ययन किया जाएं।

स्मरण रहे कि विजय दशमी पर्व पर जोड़ा फाटक के नजदीक रावण को जलता देखने के लिए रेल पटरियों पर इकटठी हुई भीड़ की भिडंत रेल गाड़ी से हो गई थी, जिसमें 65 के करीब मानवीय जानें मौत की आगोश में यकायक समा गई और आज भी अमृतसर के विभिन्न अस्पतालों में सैकड़ों की संख्या में जख्मी हालात में जिंदगी और मौत के लिए जदोजहद कर रहे है।

facebook twitter instagram