+

TOP 5 NEWS 30 OCTOBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें

सीएम नीतीश कुमार ने आबादी के हिसाब से आरक्षण की हिमायत की है। उनका कहना है कि उनकी हमेशा से यही राय रही है और वो इस पर कायम है कि जातियों को उनकी आबादी के हिसाब से ही आरक्षण मिलना चाहिए।
TOP 5 NEWS 30 OCTOBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें
1 - बिहार चुनाव 2020 : नीतीश ने की आबादी के हिसाब से रिजर्वेशन की वकालत 

सीएम नीतीश कुमार ने आबादी के हिसाब से आरक्षण की हिमायत की है। उनका कहना है कि उनकी हमेशा से यही राय रही है और वो इस पर कायम है कि जातियों को उनकी आबादी के हिसाब से ही आरक्षण मिलना चाहिए। सियासी रण में अब आरक्षण का दांव भी आ गया है। गौरतलब है कि बिहार के रण में पार्टियां वोटों के लिए जी-तोड़ कोशिश कर रही हैं। वाल्मीकिनगर में नीतीश कुमार ने कहा कि जातियों को आबादी के हिसाब से आरक्षण मिलना चाहिए। असल में वाल्मीकि नगर में थारू जाति के काफी वोट हैं और ये जाति जनजाति में शुमार करने की मांग उठा रही है। इसी का समर्थन करते हुए नीतीश ने कहा कि जनगणना हम लोगों के हाथ में नहीं है, लेकिन हम चाहेंगे कि जितनी लोगों की आबादी है, उस हिसाब से लोगों को आरक्षण मिले। इसमें हमारी कोई दो राय नहीं है। सीएम नीतीश कुमार ने ये भी कहा कि थारू को आरक्षण का फायदा दिलाने के लिए वो सालों से कोशिश कर रहे हैं। तब से जब से वो अटल सरकार में रेल मंत्री थे। 

2 - फ्रांस : नीस हमले में बड़ा खुलासा, ट्यूनीशिया का है 21 वर्षीय हमलावर

गुरुवार को फ्रांस के नीस में एक गिरिजाघर में हमलावर द्वारा चाकू से किए गए हमले में तीन लोगों की मौत हो गई। नीस शहर में हुए इस हमले में जांच अधिकारियों ने बड़ा खुलासा किया है। समाचार एजेंसी एएफपी के मुताबिक, हमलावर की पहचान ट्यूनीशिया के नागरिक के रूप में हुई है। हमलावर फ्रांस के चर्च में हाथ में कुरान की कॉपी और चाकू लेकर घुसा था और फिर उसने तीन लोगों की हत्या कर दी। यह पिछले दो महीनों में फ्रांस में इस तरह का तीसरा हमला है। इस हमले की जांच कर रही फ्रांस के आतंकवाद-निरोधी अभियोजक ने कहा कि हमलावर एक ट्यूनीशियाई नागरिक है जो 1999 में पैदा हुआ था। हमला करने के लिए हमलावर इटली के रास्ते आया है। वह लैम्पेदुसा के इतालवी द्वीप से चलकर 20 सितंबर को इटली पहुंचा और फिर 9 अक्टबर को पेरिस पहुंचा।

3 -115 में से 43 प्रत्याशियों की किस्मत दांव पर

बिहार चुनाव 2020 : पिछले 15 साल से काबिज जनता दल यूनाईटेड (जदयू) के लिए बिहार विधानसभा चुनाव का दूसरा चरण सबसे अहम है। 3 नवम्बर को होने वाले मतदान का यह चरण जदयू के लिए एनडीए गठबंधन के तहत सबसे अधिक उम्मीदवार उतारने और अच्छी-खासी संख्या में अपने पास की सीटिंग सीट बचाने के लिहाज से महत्वपूर्ण है। दल के आला नेता भी इसे स्वीकारते हैं। प्रदेश जदयू अध्यक्ष बशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि पहले चरण में बिहार के मतदाताओं के रुख से हम उत्साहित हैं। दूसरा चरण हमारे लिए स्वाभाविक रूप से मजबूती लेकर आएगा। राष्ट्रीय सचिव रवीन्द्र सिंह ने कहा कि जदयू को दूसरे चरण से उम्मीद अधिक है। गौर हो कि एनडीए गठबंधन के तहत जदयू को 115 सीटें मिली हैं। पहले चरण में जदयू के 35 प्रत्याशी मैदान में थे। वहीं दूसरे चरण में दल ने सबसे अधिक 43 उम्मीदवार उतारे हैं। शेष 37 प्रत्याशी तीसरे चरण में उतरे हैं। 

4 - भारत-चीन तनाव : चीन ने अपनी सेना को दी नई तकनीकी सुविधाएं

दोनों ही देशों की सेनाएं सीमा पर पूरी ताकत से डटी हुई हैं और दोनों ही देश अपनी सेनाओं को बेहतर सुविधाएं देने के लिए लगातार प्रयास कर रहे हैं। इसी बीच गुरुवार के चीन ने बताया है कि वो अपनी सेना को नई तकनीक के कपड़े, रहने की जगह और इसके अलावा कई दूसरी सुविधाएं देने जा रहे हैं। जिससे जवानों का प्रशिक्षण अच्छा हो, उनके रहने की स्थिति में सुधार हो। क्योंकि पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच सीमा को लेकर कई महीनों से तनाव चल रहा है।  वू ने कहा कि सैनिकों के रहने के लिए, सैनिकों को नए तरह के आत्म-संचालित  हीट शेल्टर दिए गए हैं, जो अधिकारियों और जवानों द्वारा बनाए जा सकते हैं। वू ने बताया, "-40 डिग्री सेंटीग्रेड के बाहरी तापमान और 5,000 मीटर से अधिक की ऊंचाई वाले क्षेत्रों में, इनडोर तापमान 15 डिग्री सेंटीग्रेड से अधिक हो सकता है।"

5 - SAI app : भारतीय सेना ने बनाया स्वदेशी मैसेजिंग एप 'SAI'

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘आत्मनिर्भर भारत’ अभियान को आगे बढ़ाते हुए व्हाट्सएप जैसा एक स्वदेशी मैसेजिंग एप विकसित किया गया है। इसका नाम सिक्योर एप्लिकेशन फॉर इंटरनेट (साई) है। यह जानकारी गुरुवार को रक्षा मंत्रालय ने दी। सेना का यह मैसेजिंग एप पूरी तरह से सुरक्षित होगा। वह इस एप का इस्तेमाल आपसी कम्युनिकेशन के लिए करेगी। एप एंड टू एंड सिक्योर वॉयस, टेक्स्ट और वीडियो कॉलिंग सर्विस को सपोर्ट करेगा। यह मैसेजिंग एप एंड्रॉयड बेस्ड इंटरनेट सर्विस इस्तेमाल करने वाले स्मार्टफोन के लिए होगा। रक्षा मंत्रालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि साई भारत में पहले से मौजूद मैसेजिंग एप जैसे व्हाट्सएप, टेलीग्राम, संवाद और जिम्स जैसा होगा। यह एंड टू एंड इंस्क्रिप्शन मैजेसिंग प्रोटोकॉल का उपयोग करेगा। बता दें कि साई का पूरे देश में सेना द्वारा सुरक्षित रूप से संदेश भेजने के लिए उपयोग किया जाएगा।

facebook twitter instagram