+

अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में कांटे की टक्कर, ट्रंप ने किया चुनाव प्रक्रिया में ‘धोखाधड़ी’ का दावा

अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में डोनाल्ड ट्रंप और डेमोक्रेटिक पार्टी के उनके प्रतिद्वंद्वी जो. बाइडेन के बीच कांटे की टक्कर नजर आ रही है। हालांकि, मौजूदा रिपब्लिकन राष्ट्रपति ट्रंप ने मतगणना में बुधवार को ‘‘धोखाधड़ी’’ का दावा किया और कहा कि वह इसे रोकने के लिए उच्चतम न्यायालय जाएंगे।
अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में कांटे की टक्कर, ट्रंप ने किया चुनाव प्रक्रिया में ‘धोखाधड़ी’ का दावा
अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में डोनाल्ड ट्रंप और डेमोक्रेटिक पार्टी के उनके प्रतिद्वंद्वी जो. बाइडेन के बीच कांटे की टक्कर नजर आ रही है। हालांकि, मौजूदा रिपब्लिकन राष्ट्रपति ट्रंप ने मतगणना में बुधवार को ‘‘धोखाधड़ी’’ का दावा किया और कहा कि वह इसे रोकने के लिए उच्चतम न्यायालय जाएंगे। 
लाखों मतों की गिनती अब भी चल रही है और कई महत्वपूर्ण राज्यों में परिणामों की घोषणा होनी अभी बाकी है। ट्रंप और बाइडेन दोनों ने कहा है कि वे 2020 के राष्ट्रपति चुनाव में जीतने जा रहे हैं। यह चुनाव अमेरिका के इतिहास में सर्वाधिक विभाजक और कटु चुनावों में से एक है। 
मंगलवार को हुए चुनाव में महत्वपूर्ण राज्यों में कांटे की टक्कर नजर आ रही है जिनमें बाइडेन 224 निर्वाचक मंडल मत जीत रहे हैं, जबकि ट्रंप 213 निर्वाचक मंडल मतों के साथ थोड़ा पीछे हैं। स्पष्ट जीत के लिए 538 निर्वाचक मंडल सदस्यों में से विजेता बनने के लिए कम से कम 270 निर्वाचक मंडल मतों की आवश्यकता है। 
राष्ट्रपति का पसंदीदा समाचार नेटवर्क माने जाने वाले फॉक्स न्यूज ने ट्रंप को अपने अनुमान में केवल 213 निर्वाचक मंडल मत दिए हैं और बाइडेन की झोली में इसने इन मतों की संख्या 238 बताई है। इसने लोकप्रिय मतों में से 50 प्रतिशत वोट डेमोक्रेटिक उम्मीदवार बाइडेन को तथा 48.4 प्रतशित लोकप्रिय मत ट्रंप को दिए हैं। 
अमेरिका के किसी भी बड़े मीडिया प्रतिष्ठान ने स्पष्ट विजेता की घोषणा नहीं की है। 
ट्रंप ने चुनाव को 'अमेरिकी जनता के साथ धोखा' करार दिया और कहा, 'स्पष्ट रूप से कहूं, हमने यह चुनाव जीत लिया।' 
उन्होंने यह भी कहा कि मतों की गिनती रोकने के लिए उनकी योजना उच्चतम न्यायालय जाने की है। 
राष्ट्रपति ने चुनाव प्रक्रिया में गड़बड़ी का कोई हवाला दिए बिना कहा, ''अचानक सब कुछ रुक गया। यह अमेरिकी जनता के साथ धोखाधड़ी है। यह देश के लिए शर्म की बात है। हम यह चुनाव जीत रहे थे।’’ 
ट्रंप ने बुधवार को व्हाइट हाउस में अपने भाषण में कहा, ''करोड़ों लोगों ने हमें वोट दिया है।'' 
उन्होंने दावा किया, ''बेहद निराश लोगों का एक समूह दूसरे समूह के लोगों को हतोत्साहित करने का प्रयास कर रहा है। हम बड़े जश्न की तैयारी में थे। हम जीत रहे थे। लेकिन अचानक सब बदल दिया गया।'' 
ट्रंप ने कहा कि वह चाहते हैं कि मतदान रोका जाए। 
उन्होंने कहा कि वह उच्चतम न्यायालय जाएंगे। 
ट्रंप ने कहा 'हमारा लक्ष्य अब इस देश की भलाई के लिए अखंडता सुनिश्चित करना है। यह एक बहुत बड़ा क्षण है। यह हमारे देश के साथ एक बड़ा धोखा है। हम चाहते हैं कि कानून का उचित तरीके से उपयोग किया जाए। इसलिए हम अमेरिकी उच्चतम न्यायालय जा रहे हैं।’’ 
इस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए बाइडेन के अभियान प्रबंधक ने ट्रंप के बयान को 'अपमानजनक, अभूतपूर्व और गलत' बताया। वहीं, मुख्यधारा की अमेरिकी मीडिया ने राष्ट्रपति की आलोचना की है। 
राष्ट्रपति के कदम की आलोचना करते हुए न्यूयॉर्क टाइम्स ने कहा कि किसी भी निर्वाचित नेता को यह अधिकार नहीं है कि वह मतों की गिनती को रोकने का आदेश दे। 
उधर, वाशिंगटन पोस्ट ने कहा कि लाखों मतों की गिनती अभी की जानी है और ऐसी संभावना है कि नतीजे आने में कई दिन लग सकते हैं। 
वहीं, बाइडेन ने अपने समर्थकों को संबोधित करते हुए उनसे धैर्य बनाए रखने को कहा। उन्होंने पेन्सिलवेनिया और मिशिगन सहित अन्य राज्यों का जिक्र करते हुए कहा कि कि उन्हें जीत की उम्मीद है। 
उन्होंने कहा कि चुनाव के विजेता की घोषणा करने का काम उनका या ट्रंप का नहीं है। ‘‘... यह अमेरिकी लोगों का फैसला है। लेकिन मैं परिणाम को लेकर आशान्वित हूं।’’ 
facebook twitter instagram