+

उत्तर प्रदेश में CAA के खिलाफ अनोखा विरोध, कब्रिस्तान पहुंच कर पूर्वजों की कब्र पर रोने लगे कांग्रेसी नेता

देशभर में नागरिकता कानून के खिलाफ दिल्ली के शाहीन बाग की तरह उत्तर प्रदेश में विरोध जारी है। प्रदर्शन करने वाले लोगों ने सरकार तक अपनी बात पहुंचाने के लिए कई अनोखे तरीके अपनाए है।
उत्तर प्रदेश में CAA के खिलाफ अनोखा विरोध, कब्रिस्तान पहुंच कर पूर्वजों की कब्र पर रोने लगे कांग्रेसी नेता
देशभर में नागरिकता कानून के खिलाफ दिल्ली के शाहीन बाग की तरह उत्तर प्रदेश में विरोध जारी है। प्रदर्शन करने वाले लोगों ने सरकार तक अपनी बात पहुंचाने के लिए कई अनोखे तरीके अपनाए है। प्रयागराज में कांग्रेस नेता हसीब अहमद अपने पुरखों की कब्र के पास पहुंचे और रोते हुए उनसे नागरिकता से जुड़े दस्तावेज मांगने लगे। 

इस दौरान जब उनसे पूछा गया कि वह यहां कब्र पर क्या कर रहे है तो उन्होंने कहा कि, ‘सीएए और एनआरसी पर देश में विभाजनकारी राजनीति चल रही है। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने कहा है कि यदि आप सीएए और एनआरसी के अंदर आते है तो आपकों अहम दस्तावेज दिखाने होगें। 

हमारे पास कोई दस्तावेज नहीं है जिसे दिखा कर हम अपनी नागरिकता साबित करें।’हसीब अहमद ने कहा की हमने अपने पूर्वजों से कहा कि इस बात का प्रमाण दें कि हम इस देश के नागरिक हैं। हमने सरकार से मांग की है कि अगर हमें डिटेंशन कैंप में भेजा जाएगा तो हमारे पुरखों के अवशेष भी वहां रखे जाएं।' बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून को लेकर लोग दो पक्षों में बंट चुके हैं। एक पक्ष जहां इसका विरोध कर रहा है तो वहीं दूसरा पक्ष इसके समर्थन में है।

चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर 25 हुई, 830 मामलों की पुष्टि

facebook twitter