+

सीएम योगी के निर्देश पर यूपी 112 सेवा को बनाया गया है और अधिक सशक्त

सीएम योगी के निर्देश पर यूपी 112 सेवा को बनाया गया है और अधिक सशक्त
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर आम जनता की आकस्मिकता की स्थिति में पुलिस विभाग की सेवाओं की त्वरित गति से उपलब्धता सुनिश्चित करने के मकसद से यूपी-112 सेवा को और अधिक सुदृढ एवं सशक्त बनाया गया है। 
अपर मुख्य सचिव (गृह) अवनीश कुमार अवस्थी ने रविवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देशों के क्रम में यूपी-112 की सेवाओं को और अधिक विस्तार दिया गया है। 
उन्होंने बताया कि इसके लिए जहां एक ओर यूपी-112 को अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुसार आपात सेवा के रूप में संचालित करने की दिशा में गंभीरता से प्रयास किये गये हैं, वहीं इसके माध्यम से वर्तमान सेवा के अलावा अग्निशमन सेवा, जीआरपी, 108 एंबुलेंस सेवा और 1090 वीमेन पावर लाइन जैसी सेवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने की व्यवस्था की गयी है। 
अपर पुलिस महानिदेशक (यूपी 112) असीम अरुण ने बताया कि यूपी- 112 की सेवाएं जहां पहले सामान्य घटनाओं और आपातकालीन सूचनाओं पर कार्य करती थीं, वहीं अब इसके माध्यम से आग लगने पर जल्द मदद पहुंचाने के लिए अग्निशमन विभाग से भी जोड़ दिया गया है। 
अरुण ने बताया कि ट्रेनों में राजकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) की सहायता प्राप्त करने के लिए भी अब इस नंबर का इस्तेमाल किया जा सकेगा। उन्होंने बताया कि किसी आकस्मिक आपदा के समय राज्य आपदा मोचक बल से मदद पाने के लिए भी उससे जोड़ा गया है। महिलाओं की सुरक्षा व्यवस्था को और अधिक चुस्त दुरुस्त बनाने के लिए इसे वीमेन पावर लाइन 1090 से जोड़ा गया है। साथ ही पिंक बस सेवा से भी इसे जोड़ने की व्यवस्था की गयी है। 
अरुण ने बताया कि वृद्धजनों के लिए यूपी-112 की ओर से 'सवेरा' नामक योजना शुरू की गयी है, जिसके तहत सात लाख 30 हजार से अधिक बुजुर्गों का पंजीकरण कर उनके लिए अलग से डेस्क बनायी गयी है। 
उन्होंने बताया कि घरेलू हिंसा से पीड़ित महिलाओं के पंजीकरण की भी विशेष व्यवस्था है।  यूपी-112 ने 26 अक्टूबर 2019 से अब तक कुल 44 लाख 68 हजार 451 फोन कॉल पर त्वरित सहायता पहुंचाने में सहयोग किया है। 
facebook twitter