+

उत्तराखंड : भाजपा में गुटबाजी के बीच हरीश रावत ने कसा यतीश्वरानंद पर तंज

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत भले ही इन दिनों हरक सिंह रावत के साथ जुबानी जंग में व्यस्त हों, लेकिन इस बीच भी वह भाजपा सरकार की जमकर घेराबंदी कर रहे हैं।
उत्तराखंड  : भाजपा में गुटबाजी के बीच हरीश रावत ने कसा यतीश्वरानंद पर तंज
उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत भले ही इन दिनों हरक सिंह रावत के साथ जुबानी जंग में व्यस्त हों, लेकिन इस बीच भी वह भाजपा सरकार की जमकर घेराबंदी कर रहे हैं। हरीश रावत ने इस बार मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के करीबी माने जाने वाले पूर्व मंत्री यतीश्वरानंद पर हमला बोला है तो वहीं भाजपा के भीतर चल रही गुटबाजी पर भी निशाना साधा है।
कांग्रेस के दोनों कद्दावर रावत आपस में भी नही पचा रहे एक- दूसरे को 
उत्तराखंड कांग्रेस में हरक सिंह रावत की प्रीतम गुट के साथ मुलाकात से इन दिनों पार्टी के भीतर गहमागहमी के हालात बने हुए हैं। इस बीच हरक सिंह और हरीश रावत के बीच सीधी जुबानी जंग भी देखने को मिल रही है। इन परिस्थितियों में भी पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत एक मोर्चा अपनी पार्टी के साथ तो दूसरा मोर्चा भाजपा सरकार के साथ थामे हुए हैं।
दरअसल, हरीश रावत ने इस बार भाजपा सरकार में पूर्व मंत्री और मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के करीबी माने जाने वाले यतीश्वरानंद की घेराबंदी की है। हरीश रावत ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को सलाह दी है कि मुख्यमंत्री की छवि पूरी तरह से साफ होनी चाहिए, इसलिए हरिद्वार में कुछ लोग जो बालू यानी खनन के खेल में शामिल हैं, ऐसे लोगों को मुख्यमंत्री को खुद से दूर रखना चाहिए।
इस दौरान उन्होंने भाजपा के बीच गुटबाजी का भी जिक्र करते हुए कहा,  वैसे तो मुख्यमंत्री का अपना विवेक है कि वह किसे अपने साथ रखें और किसे नहीं, लेकिन ऐसा लगता है कि मुख्यमंत्री सांसद डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक और एक विधायक के डर से मदन कौशिक जो कि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष हैं, उनसे दूरी बनाए हुए हैं। इसीलिए हरिद्वार में किसी भी कार्यक्रम में वे दोनों साथ में ही दिखाई दे रहे हैं। 
 
facebook twitter instagram