उत्तराखंड : डेंगू से शुरू जंग, मंत्रिमंडल और कार्यकारिणी तक पहुंचा

उत्तराखंड के देहरादून और अन्य जगहों में डेंगू के बढते प्रकोप के बीच सत्ताधारी भाजपा और विपक्षी कांग्रेस के बीच बीमारी से बचाव को लेकर शुरू हुआ आरोप-प्रत्यारोपों का सिलसिला अब मंत्रिमंडल और कार्यकारिणी के सियासी जंग में बदल गया है। 

डेंगू से निपटने में नाकामी के आरोपों से घिरे मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह के इर्द-गिर्द डेंगू के मच्छर घूम रहे हैं जिसके कारण वह लंबे समय से अपनी कार्यकारिणी तक घोषित नहीं कर पा रहे। 

यहां संवाददाताओं द्वारा इस संबंध में पूछे जाने पर मुख्यमंत्री ने कहा कि अच्छा यह होता कि वह (प्रीतम सिंह) अपना ध्यान अपनी पार्टी की तरफ ज्यादा देते। उन्होंने कहा, ‘‘वह एक भले इंसान हैं लेकिन उन्हें जो समझा दिया जाता है वह वही बोल देते हैं।’’ 

मुख्यमंत्री का यह बयान प्रीतम सिंह के उस आरोप पर आया है जिसमें उन्होंने कहा था कि सरकार डेंगू से निपटने के लिये कुछ नहीं कर रही है। 

दूसरी तरफ, मुख्यमंत्री पर पलटवार करते हुए सिंह ने कहा कि उनके पास स्वास्थ्य विभाग की जिम्मेदारी भी है और उन्हें चाहिये कि वह राजनीति करने की बजाय डेंगू से बचाव पर ध्यान दें। सिंह के समर्थन में आये पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने भी मुख्यमंत्री के बयान को खेदजनक बताया और कहा कि कांग्रेस की कार्यकारिणी कब बनेगी, यह एक अलग विषय है लेकिन मुख्यमंत्री रावत को यह बताना चाहिए कि उनके मंत्रिमंडल में रिक्त तीन पद कब भरे जायेंगे। 

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के बयान में हल्कापन है और मुझे लगता है कि सरकार स्वयं डेंगू-ग्रस्त हो चुकी है। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार, इस सीजन में अब तक प्रदेश में 1,700 से ज्यादा डेंगू के मामले सामने आ चुके हैं जिनमें से आठ की मौत हो चुकी है। 

Tags : Badrinath,चारधाम यात्रा,बद्रीनाथ,हिमपात,Snow,भीषण ठंड,Kedarnath Dham,केदारनाथ धाम,Chardham Yatra,Gruzing cold ,Uttarakhand,war,executive