+

भारतीय टीम में 29 वर्षीय वरुण चक्रवर्ती का हुआ चयन, जानें कैसे तय किया आर्किटेक्ट से क्रिकेटर बनने का सफर

भारतीय टीम के सभी प्रारूपों का ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए बीते सोमवार को बीसीसीआई ने ऐलान कर दिया है। ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए टीम इंडिया की टी20 टीम में कोलकाता नाइट राइडर्स
भारतीय टीम में 29 वर्षीय वरुण चक्रवर्ती का हुआ चयन, जानें कैसे तय किया आर्किटेक्ट से क्रिकेटर बनने का सफर
भारतीय टीम के सभी प्रारूपों का ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए बीते सोमवार को बीसीसीआई ने ऐलान कर दिया है। ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए टीम इंडिया की टी20 टीम में कोलकाता नाइट राइडर्स के मिस्ट्री स्पिनर वरुण चक्रवर्ती को जगह दी गई है। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भारत की तीन टी20 मैचों की सीरीज में वरुण चक्रवर्ती को मौका दिया है। कई लोगों को उनके चयन से बहुत हैरानी हुई है। वरुण चक्रवर्ती ने अभी तक क्रिकेट में एक फर्स्ट क्लास मैच खेला है जबकि टी20 में 12 मैच खेले हैं। 


वरुण चक्रवर्ती आईपीएल 13 में कोलकाता नाइट राइडर्स की तरफ से खेल रहे हैं और 12 मैचों में 13 विकेट अपने नाम किए हैं। वरुण चक्रवर्ती ने भारतीय टीम में जगह मिलने के बाद कहा कि, मेरा मूल लक्ष्य नियमित रूप से टीम में खेलना, प्रदर्शन करना और उनकी जीत में योगदान करना था। उम्मीद है कि मैं भारत के लिए भी ऐसा कर पाऊंगा। मुझ पर भरोसा जताने के लिए चयनकर्ताओं को धन्यवाद देता हूं,मेरे पास वास्तव में शब्द नहीं है। 

8.4 करोड़ में कोलकाता ने नीलामी में खरीदा

आईपीएल 2020 में पांच विकेट हॉल लेने वाले वरुण चक्रवर्ती पहले गेंदबाज बने हैं। यह कारनामा दिल्‍ली कैपिटल्स के खिलाफ एक मैच में उन्होंने किया। वरुण ने पांच विकेट चार ओवरों में 20 रन देकर चटकाए। तमिलानाडु प्रीमियन लीग से यह 29 वर्षीय गेंदबाज पेशेवर क्रिकेटर है। 


कोलकाता ने आईपीएल 2019 की नीलामी में वरुण को 8.4 करोड़ रुपए में खरीदा था। पिछले साल आईपीएल में वरुण ने एक ही मैच खेला था जिसके बाद उन्हें चोट लग गई थी। मगर इस साल भी कोलकाता की टीम ने उनपर भरोसा अपना कायम रखा। कोलकाता की टीम के लिए प्रमुख स्पिनर के तौर पर वह उभरे हैं। 

वरुण चक्रवर्ती आर्किटेक्ट हैं

आर्किटेक्चर में पांच साल का कोर्स वरुण चक्रवर्ती ने चेन्नई के एक कॉलेज से किया है। हालांकि आर्किटेक्ट की नौकरी भी वह फ्रीलांस के तौर पर कर चुके हैं। मगर अब तमिलनाडु प्रीमीयर लीग में खेलते हैं और 240 गेंदों में से 125 डॉट बॉल डालने का रिकॉर्ड उन्होंने अपने नाम बनाया है। तमिलनाडु की रणजी टीम में अब वह खेलते हैं। उन्होंने केवल लिस्ट ए मैचों में 9 मैच खेले हैं और 22 विकेट 4.23 की औसत से लिए हैं। 


अपने क्रिकेट सफर पर बात करते हुए वरुण चक्रवर्ती ने कहा, मैंने 2018 में अपनी स्पिन गेंदबाजी की शुरुआत की, जब मुझे टीएनपीएल में मेरी सफलता मिली। पिछला साल उतार-चढ़ाव वाला रहा। मुझे कई मौके मिले लेकिन चोटिल हो गया. इस साल मैं कड़ी मेहनत कर रहा हूं। ये प्रेरणा और विश्वास मेरे आसपास के बहुत से लोगों से आया है।

बड़ी बात है भारत के लिए चुना जाना

वरुण चक्रवर्ती ने फुलटाइम क्रिकेटर बनने के बाद कहा,  2015 के आसपास जब मैं बहुत पैसा नहीं बना रहा था, फ्रीलांसिंग कर रहा था और अपनी जरूरतों को पूरा करने में सक्षम नहीं था। मुझे लगा कि मैं कुछ अलग करूंगा, तभी मैंने क्रिकेट की ओर रुख कर लिया।


वरुण चक्रवर्ती ने भारतीय टीम में शामिल होने पर कहा, मैं अपने माता-पिता और मंगेतर से बात करूंगा। उनके साथ खुशियां साझा करूंगा। मेरे पास अभी शब्द नहीं हैं। भारत के लिए चुना जाना बड़ी बात है। मैं वास्तव में इसकी उम्मीद नहीं कर रहा था।
facebook twitter instagram