वीरप्पा मोइली ने BPCL के विनिवेश के फैसले को पीछे ले जाने वाला कदम बताया

पूर्व केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री वीरप्पा मोइली ने सरकार के भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लि. (बीपीसीएल) के विनिवेश के फैसले पर क्षोभ जताते हुए इसे पीछे की ओर ले जाने वाला कदम करार दिया है। कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री मोइली ने बृहस्पतिवार को बयान में कहा कि मंत्रिमंडल का देश की एक महत्वपूर्ण नवरत्न कंपनी को बेचने का फैसला झटका देने वाला है। यह सरकार का प्रतिगामी कदम है। 

मोइली ने केंद्र सरकार से अपनी इस फैसले को वापस लेने की मांग करते हुए याद दिलाया कि देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने ब्रिटेन की कंपनी का राष्ट्रीयकरण किया था जिससे देश को ऊर्जा क्षेत्र में मजबूत बनाया जा सके। मोइली ने कहा कि सरकार को अपने इस फैसले को वापस लेना चाहिए। 

‘‘इसकी कोई वजह नहीं है कि मुनाफा कमाने वाली और उत्कृष्ट पेशेवरों द्वारा प्रबंधित कंपनी को बेचा जाए।’’ केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने हाल में कहा था कि अगले साल मार्च तक बीपीसीएल और एयर इंडिया को बेचा जाएगा। 

महाराष्ट्र : कांग्रेस के साथ संयुक्त बैठक से पहले NCP नेताओं की बैठक


Tags : Badrinath,चारधाम यात्रा,बद्रीनाथ,हिमपात,Snow,भीषण ठंड,Kedarnath Dham,केदारनाथ धाम,Chardham Yatra,Gruzing cold ,Veerappa Moily,BPCL,Government of India Petroleum Corporation Limited