+

रिश्वत न दे पाने पर 6 साल के मासूम ने मां के साथ खींचा स्ट्रेचर, प्रशासन ने कार्रवाई करते हुए वार्ड ब्वॉय को हटाया

सोशल मीडिया पर वायरल हुए इस वीडियो के बारे में पूछे जाने पर जिलाधिकारी ने कहा कि वीडियो करीब दो दिन पुराना है तथा इस घटना में वॉर्ड ब्वॉय प्रथम दृष्ट्या दोषी है और उसे हटा दिया गया है।
रिश्वत न दे पाने पर 6 साल के मासूम ने मां के साथ खींचा स्ट्रेचर, प्रशासन ने कार्रवाई करते हुए वार्ड ब्वॉय को हटाया
उत्तर प्रदेश के देवरिया जिला अस्पताल से एक ऐसी वीडियो सामने आई है जो मरीजों से रिश्वतखोरी का खुलासा करती है। सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें एक 6 साल बच्चा अपनी मां के साथ स्ट्रेचर को धक्का लगता नजर आ रहा है।स्ट्रेचर पर बच्चे के नाना लेटे हुए है। वीडियो सामने आने के बाद प्रशासन ने आरोपी वार्ड ब्वॉय को हटा दिया है।
करीब आठ सेकेंड के इस वीडियो में छह साल का बच्चा एक स्ट्रेचर को पीछे से धक्का दे रहा है, जबकि आगे से उसकी मां स्ट्रेचर खींच रही है। ट्विटर पर इस वीडियो को शेयर करते हुए दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालिवाल ने लिखा, "कंधे छोटे हैं लेकिन प्यार माँ से अधिक है, आत्मनिर्भरता का और उदहारण दिखाएं या ये ठीक है? ज़िला अस्प्ताल : देवरिया।
दरअसल, देवरिया के बरहज इलाके के गौरा गांव के छेदी यादव को दो पहले चोट लगने के कारण जिला अस्पताल के सर्जिकल वार्ड में भर्ती कराया गया था। उनकी पत्नी पार्वती और बेटी बिंदू उसकी तीमारदारी में लगी थीं। बिंदू ने सोमवार को संवाददाताओं को बताया, ‘‘वार्ड ब्वॉय हर बार पिता की मरहम-पट्टी करवाने के लिए स्ट्रेचर पर ले जाने के एवज में 30 रुपये रिश्वत मांगता था। 
पैसे देने से मना करने पर वार्ड ब्वॉय ने मेरे पिता को ड्रेसिंग के लिए ले जाने से इनकार कर दिया। इस पर मैं खुद उनका स्ट्रेचर खींचकर डॉक्टर के पास ले गई। इस दौरान मेरे छह साल के बेटे शिवम ने पीछे से स्ट्रेचर को धक्का लगाया।’’ घटना की सूचना पर सोमवार को अस्पताल पहुंचे जिलाधिकारी अमित किशोर के निर्देश पर आरोपी वार्ड ब्वॉय को ड्यूटी से हटा दिया गया। 
उन्होंने उप जिलाधिकारी-सदर और अपर मुख्य चिकित्साधिकारी की संयुक्त जांच टीम गठित कर उसे जल्द से जल्द रिपोर्ट देने को कहा है। सोशल मीडिया पर फैले इस वीडियो के बारे में पूछे जाने पर जिलाधिकारी ने कहा कि वह वीडियो करीब दो दिन पुराना है तथा इस घटना में वॉर्ड ब्वॉय प्रथम दृष्ट्या दोषी है और उसे हटा दिया गया है।
facebook twitter