+

जल्द क्रियाशील करें वेटलैंड अथॉरिटी : मुख्यमंत्री गहलोत

जल्द क्रियाशील करें वेटलैंड अथॉरिटी : मुख्यमंत्री गहलोत
जयपुर : राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सांभर झील सहित प्रदेश के अन्य वेटलैंड्स के संरक्षण एवं संवर्धन कार्यों के लिए राज्य स्तरीय वेटलैंड अथॉरिटी को शीघ्र क्रियाशील करने के निर्देश दिए हैं।उन्होंने कहा कि इस अथॉरिटी में शामिल होने वाले विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञों की सहायता से सांभर झील जैसे वेटलैण्ड्स का संरक्षण करने में मदद मिलेगी तथा जैव विविधता का संवर्धन किया जा सकेगा। 

गहलोत मंगलवार को सांभर झील क्षेत्र में पक्षियों को बचाने के लिए चल रहे राहत कार्यों की समीक्षा कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने बैठक के दौरान ही जयपुर, नागौर तथा अजमेर जिला कलक्टरों से वीडियो कांफ्रेंस कर उनके जिलों में किए जा रहे प्रयासों की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि पक्षियों की मृत्यु गंभीर चिंता का विषय है। इनको बचाने में कोई कमी ना रखी जाए। 

उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पूर्व में पक्षियों की एकाएक मौत की घटनाओं तथा उन्हें रोकने के लिए किए गए उपायों का अध्ययन एवं विश्लेषण कराएं। जिसके आधार पर भविष्य में ऐसी घटनाओं को प्रभावी रूप से रोका जा सके। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार अपने स्तर पर राहत कार्यों में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ रही। यह अच्छी बात है कि अधिकारी केन्द्र सरकार से तथा पक्षी विज्ञान के क्षेत्र में कार्यरत सभी संस्थानों की भी मदद ले रहे हैं। 

बैठक में बताया गया कि पशुपालन विभाग के 100 चिकित्सकों एवं नर्सिंगकर्मियों की 20 टीमें पक्षियों को बचाने के लिए जयपुर जिले के सांभर झील क्षेत्र में कार्य कर रही हैं। साथ ही मृत पक्षियों का वैज्ञानिक निस्तारण किया जा रहा है। वन विभाग के करीब 100 कार्मिक, एसडीआरएफ की टीम तथा स्वयंसेवी संगठनों के स्वयंसेवक पूरी तत्परता के साथ पक्षियों को बचाने में जुटे हुए हैं। करीब 600 पक्षियों को रेस्क्यू कर उन्हें उपचार दिया गया है। इनमें से काफी पक्षियों की स्थिति में सुधार है। 
facebook twitter