कांग्रेस की गलत नीतियों ने देश को कर दिया बर्बाद : PM मोदी

एलनाबाद/रेवाड़ी (हरियाणा) :  हरियाणा विधानसभा चुनाव प्रचार के आखिरी दिन अपनी रैलियों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अनुच्छेद 370 और करतारपुर गलियारा के मुद्दे को लेकर विपक्षी कांग्रेस पर जोरदार प्रहार किया। उन्होंने आरोप लगाया कि उसकी (कांग्रेस की) गलत नीतियों और रणनीति ने देश को बर्बाद कर दिया।
 
मोदी ने यह आरोप भी लगाया कि कांग्रेस के नेता अनुच्छेद 370 को समाप्त करने में नाकाम रहे, जबकि 1964 में संसद में पार्टी ने इसका वादा किया था। 

प्रधानमंत्री मोदी ने एलनाबाद में एक रैली में अनुच्छेद 370 का जिक्र करते हुए कहा कि जिसे भीमराव आंबेडकर ने एक अस्थायी प्रावधान कहा था, वह 70 साल तक बना रहा लेकिन कांग्रेस ने उस बारे में कुछ नहीं किया। 
उन्होंने कहा कि कश्मीर में स्थिति बिगड़ गई क्योंकि दिल्ली में सरकार सो रही थी। 

उन्होंने कहा, ‘‘कांग्रेस की गलत नीतियों और रणनीति ने देश को बर्बाद कर दिया।’’ उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि अब भारत और कश्मीर के लोग नीतियां बनाएंगे। 

मोदी ने कहा, ‘‘समय बदल गया है, देश बदल गया है।’’ 

हरियाणा में 21 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव होना है। 

उन्होंने जम्मू- कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों को रद्द करने के पांच अगस्त के केंद्र के फैसले को उचित बताते हुए कहा, ‘‘क्या दिल्ली में सत्ता की खातिर कश्मीर को बर्बाद होने देना चाहिए? कश्मीर ज्यादा महत्वपूर्ण होना चाहिए या प्रधानमंत्री का पद? हर भारतीय का यही जवाब होगा कि प्रधानमंत्री आते-जाते रहेंगे, कश्मीर को बने रहना होगा और समृद्ध होना होगा।’’ 

उन्होंने कहा कि 70 बरसों तक इस मुद्दे का कोई सार्थक हल निकालने के लिये ईमानदार प्रयास नहीं किया गया। 
प्रधानमंत्री ने करतारपुर गलियारे के मुद्दे पर कहा कि यह पूरा होने के करीब है और केंद्र गुरु नानक देव के 550वें प्रकाश पर्व को भव्य तरीके से मनाने के लिये इंतजाम कर रहा है। 

उन्होंने कहा, ‘‘करतारपुर गुरुद्वारा को भारतीय भू क्षेत्र में लाने की अक्षमता विभाजन के समय की एक बड़ी गलती थी। ’’ 

उन्होंने कहा कि कांग्रेस और उसकी संस्कृति से जुड़ी पार्टियों ने भारतीयों की मान्यता, परंपरा और संस्कृति को सम्मान नहीं दिया। 

मोदी ने कहा, ‘‘हमारे पवित्र स्थलों के प्रति कांग्रेस का जो रुख रहा, वही रुख जम्मू कश्मीर के प्रति भी उसका रहा।’’ 

उन्होंने कांग्रेस पर प्रहार करते हुए कहा, ‘‘दिल्ली में सो रही सरकार ने कश्मीर में स्थिति बदतर कर दी। शुरूआत में ही हमसे हमारे भूक्षेत्र का एक हिस्सा छीन लिया गया और वह पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर (पीओके) हो गया।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘कुछ साल बाद कश्मीर की सूफी परंपरा को दफन कर दिया गया। इसकी जड़ें हिला दी गई।’’ उन्होंने जोर देते हुए कहा कि कश्मीर की सूफी परंपरा ने एकता और भाईचारे का संदेश दिया। 

मोदी ने विपक्षी पार्टी पर हमला तेज करते हुए कहा, ‘‘लेकिन दिल्ली में बैठे नेता इसे नहीं देख सके। उन्होंने सोचा कि यदि वे एक-दो परिवारों का ध्यान रखेंगे तो कश्मीर की भी देखभाल हो जाएगी। इन एक-दो परिवारों को वह करने की छूट दे दी जो वे करना चाहते थे...यदि उन्हें लूटना है, तो ऐसा करने दिया जाए...यदि लोग बर्बाद होते हैं तो होने दिया जाए...ये चीजें चलती रही।’’ 

उन्होंने कहा कि बाद में जम्मू, लद्दाख और करगिल के साथ भेदभाव और अन्याय शुरू हो गया। 

उन्होंने करीब तीन दशक पहले कश्मीर घाटी में आतंकवाद के चलते कश्मीरी पंडितों के विस्थापित होने का जिक्र करते हुए कहा, ‘‘तब एक तरकीब लगाई गई, जब चार लाख से अधिक कश्मीरी पंडित परिवारों को घाटी छोड़ने के लिये मजबूर कर दिया गया, उनमें से कुछ मारे गये, उनके घर जला दिये गये और कुछ महिलाओं से बलात्कार किये गये।’’ 

मोदी ने कहा, ‘‘कश्मीर में जो कुछ हो रहा था, उसके प्रति दिल्ली में बैठे लोग आंखें मूंदे रहे। और इसलिये मैंने यह अस्थायी प्रावधान (अनुच्छेद 370) समाप्त कर दिया। जब आपने मुझे पांच साल के लिये स्थायी किया है तो मैं क्यों अस्थायी चीजों को होने दूं।’’ 

उन्होंने नदी जल बंटवारे पर कहा कि भारत अपने पानी को पाकिस्तान में नहीं जाने देगा। उन्होंने कहा, ‘‘...मैं एक बूंद पानी भी पाकिस्तान नहीं जाने दूंगा।’’ 

उन्होंने रेवाड़ी में भी कांग्रेस पर अपना प्रहार जारी रखते हुए कहा, ‘‘1964 में संसद में एक चर्चा के दौरान, देश के प्रतिष्ठित नेता परेशान हो गये...कांग्रेस बंटी हुई थी। यह मांग थी कि अनुच्छेद 370 को समाप्त किया जाए और इस मुद्दे पर संसद में चर्चा हो।’’ 

मोदी ने आज अपनी दूसरी रैली में कहा, ‘‘उस वक्त कांग्रेस नेताओं ने हाथ जोड़ कर कहा था कि उनकी मांग पूरी की जाए और अनुच्छेद 370 एक साल में समाप्त कर दिया जाए। लेकिन इस विषय को फिर से ठंडे बस्ते में डाल दिया गया।’’ 

उन्होंने पूछा, ‘‘क्या मजबूरी थी और क्या खेल खेला जा रहा था।’’ 

प्रधानमंत्री ने दावा किया, ‘‘कांग्रेस और उसके समर्थक कश्मीर को लेकर चिंतित नहीं थे...हद तब हो गई, जब उन्होंने आतंकवाद फैलाने के पीछे मौजूद लोगों की तरह इस कदम (अनुच्छेद 370 समाप्त करने) का विदेशों में विरोध किया। यह उनकी मानसकिता थी। ’’ 

उन्होंने विपक्षी पार्टी पर प्रहार करते हुए दावा किया कि उसने उन जवानों और पुलिसकर्मियों के लिये कोई स्मारक नहीं बनाया, जिन्होंने 70 साल तक राष्ट्र के लिये अपने प्राण न्यौछावर किये। ‘‘सिर्फ भाजपा सरकार ने ही उनके लिये इस तरह के स्मारक बनाये।’’ 

उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने सैनिकों के लिये अत्याधुनिक हथियार, राफेल लड़ाकू विमान और बुलेटप्रूफ जैकेट लाकर अपने सशस्त्र बलों को मजबूत किया। 

मोदी ने कहा, ‘‘हम अब बुलेटप्रूफ जैकेट बना रहे हैं और उसे निर्यात भी कर रहे हैं। कांग्रेस सरकार आतंकवादियों और अलगाववादियों की धमकियों से कांपा करती थी।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘आप बताइए, क्या आप भारत को अब मजबूत पाते हैं? आतंकवादियों को उनके घर में घुस कर मारा जा रहा। जो आतंकवादियों को पनाह देते हैं आज वे लोग दुनिया भर में गुहार लगाते फिर रहे हैं। जो हमें डराया करते थे वे अब आतंकित दिख रहे हैं।’’ 

प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि ‘वन रैंक,वन पेंशन’ (ओआरओपी) योजना के तहत हरियाणा में दो लाख पूर्व सैनिकों को 900 करोड़ रुपये दिये गये। 

Tags : Narendra Modi,कांग्रेस,Congress,नरेंद्र मोदी,राहुल गांधी,Rahul Gandhi,punjabkesri ,Congress,Narendra Modi,country,rallies,election campaign,Haryana Assembly,Kartarpur Corridor