+

उत्तर प्रदेश : ब्राह्मणों के बंदूक लाइसेंस पर योगी सरकार ने जिलाधिकारियों से मांगी जानकारी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के ब्राह्मणों पर हो रहे अत्याचार के आरोपों पर राज्य के जिलाधिकारियों से ब्राह्मणों के बंदूक लाइसेंस की जानकारी मांगी
उत्तर प्रदेश : ब्राह्मणों के बंदूक लाइसेंस पर योगी सरकार ने जिलाधिकारियों से मांगी जानकारी
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के ब्राह्मणों पर हो रहे अत्याचार के आरोपों पर राज्य के जिलाधिकारियों से नई जानकारी मांगी है। सरकार की तरफ से राज्य में ब्राह्मणों के पास मौजूद हथियार के लाइसेंस की जानकारी मांगी है। राज्य के ब्राह्मणों की सुरक्षा को मद्देनज़र सरकार की ओर से यह आदेश दिया गया है।
योगी सरकार ने जिलाधिकारियों को पत्र भेज कर कितने ब्राह्मणों द्वारा लाइसेंस के लिए आवेदन किया गया है और कितने ब्राह्मणों को लाइसेंस दिया जा चुका है, सभी आंकड़ों का विवरण मांगा गया है। गृह विभाग के सचिव प्रकाश चंद्र अग्रवाल द्वारा हस्ताक्षरित यह पत्र 18 अगस्त को जारी किया गया था और इस पत्र के मुताबिक 21 अगस्त तक सभी जिलाधिकारियों को विवरण देने को कहा गया था। 
योगी सरकार को इस विवरण की जरूरत क्यों पड़ी ?
योगी सरकार को इस विवरण की जरूरत पड़ने का कारण ये है की बीजेपी के विधायक देवमणि द्विवेदी ने ब्राह्मणों पर हो रहे हमलों, एनकाउंटर, हत्याओं पर सवाल उठाते हुए सरकार से ये जानकारी मांगी थी, जिसमें कहा कि सरकार बताए कि ब्राह्मणों की सुरक्षा के लिए आखिर क्या किया गया है।
द्विवेदी के पत्र के मुताबिक वो राज्य के गृह मंत्री यानी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से जानना चाहते हैं कि प्रदेश में पिछले तीन सालों में ब्राह्मण जाति के कितने लोगों की हत्या हुई है, हत्या के कितने अभियुक्तों की गिरफ्तारी हुई है और कितने लोगों के इन मामलों में दोषी करार दिया गया है। इसके साथ ही यह भी पूछा गया है कि ब्राह्मणों को सुरक्षा दिलाने के लिए क्या कदम उठाए गए हैं।
हालांकि इस मामले में विवाद होने की आशंका के चलते प्रशासन ने बाद में इस जानकारी की मांग को निरस्त कर दिया। अब इस संभावित राजनीति की आशंका के चलते सरकार और प्रशासन दोनों ही ऐसी किसी बात से इनकार कर रहे हैं। वहीं विधायक इंद्रमणि त्रिपाठी भी इस मामले में किसी भी तरह के कमेंट करने से बच रहे है।
facebook twitter