+

युवराज सिंह बोले- 2007 टी-20 विश्व कप के फाइनल में रोहित की पारी अहम थी

युवराज ने कहा, गौतम और इरफान का फाइनल शानदार रहा था। इसलिए मुझे लगता है कि वह संयुक्त प्रयास था। हां, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैंने दो अहम पारियां खेली थीं, जिससे हमें आगे आने में मदद मिली थी
युवराज सिंह बोले- 2007 टी-20 विश्व कप के फाइनल में रोहित की पारी अहम थी
भारतीय टीम के पूर्व हरफनमौला बल्लेबाज युवराज सिंह ने कहा है कि 2007 टी-20 विश्व कप के फाइनल में रोहित शर्मा की पारी काफी विशेष थी, जिसे अधिकतर लोग भूल जाते हैं। भारत ने 24 सितंबर 2007 को जोहान्सबर्ग में पाकिस्तान को फाइनल में मात दे पहले टी-20 विश्व कप को अपने नाम किया था। इस मैच में गौतम गंभीर ने 54 गेंदों पर 75 रनों की पारी खेली थी। वहीं इरफान पठान और आरपी सिंह ने तीन-तीन विकेट लिए थे।

युवराज ने कहा, गौतम और इरफान का फाइनल शानदार रहा था। इसलिए मुझे लगता है कि वह संयुक्त प्रयास था। हां, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैंने दो अहम पारियां खेली थीं, जिससे हमें आगे आने में मदद मिली थी। युवराज ने कहा कि लोग हमेशा फाइनल में रोहित शर्मा की पारी को भूल जाते हैं। उन्होंने 16 गेंदों पर 30 रन बनाए थे और भारत के स्कोर को 150 के पार ले गए थे। अपनी पारी में उन्होंने कुछ चौके और एक छक्का मारा था।

युवराज ने कहा, हर कोई मेरी और गौतम की बात करता है लेकिन कोई भी रोहित की 18,20 गेंदों में बनाए गए उन 36 (रोहित ने उस मैच में 16 गेंदों पर 30 रन बनाए थे) रनों को याद नहीं करता जिसने हमें 160 (पांच विकेट पर 157) तक पहुंचाया। उन्होंने कहा, वह टूर्नामेंट की सबसे अहम पारी थी। इरफान ने तीन विकेट लिए थे और मैन ऑफ द मैच रहे थे लेकिन मुझे लगता है कि फाइनल में रोहित की पारी विशेष थी।
facebook twitter