+

कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच टीकाकरण की रफ्तार तेज करने के लिए संघर्ष कर रहा है पाकिस्तान

पाकिस्तानी अधिकारी कोविड-19 रोधी टीकाकरण को तेज करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं और कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों पर काबू करने के लिए प्रतिबंधों को बढ़ा रहे हैं।
कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच टीकाकरण की रफ्तार तेज करने के लिए संघर्ष कर रहा है पाकिस्तान
पाकिस्तानी अधिकारी कोविड-19 रोधी टीकाकरण को तेज करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं और कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों पर काबू करने के लिए प्रतिबंधों को बढ़ा रहे हैं। पाकिस्तान में रविवार को कोरोना वायरस के 5,050 नए मामले सामने हुए जिसके बाद मुल्क में संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 7,21,018 पहुंच गए हैं।
वहीं मृतक संख्या बढ़कर 15,443 हो गई। ‘डॉन’ अखबार की खबर के मुताबिक, कोविड-19 से निपटने वाली देश की शीर्ष संस्था राष्ट्रीय कमान एवं संचालन केंद्र (एनसीओसी) ने शनिवार को एक बैठक में संक्रमण के प्रसार को धीमा करने के लिए सोमवार तक बाजारों को बंद करने और परिवहन पर पाबंदी बढ़ाने का फैसला किया है।
एनसीओसी में रमज़ान के आगामी महीने के दौरान टीकाकरण अभियान को लेकर भी चर्चा की गई। बैठक में शिरकत करने वालों को बताया गया कि अप्रैल के दूसरे सप्ताह के बाद देश में पर्याप्त मात्रा में टीके पहुंच सकते है। एनसीओसी ने फैसला किया कि रमज़ान के दौरान भी टीकाकरण केंद्र खुले रहेंगे।
राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा मंत्रालय के एक अधिकारी ने नाम न छापने के आग्रह पर ‘डॉन’ को बताया कि पाकिस्तान को अप्रैल के एक पखवाड़े के बाद चीन के कैनसाइनो बायो टीके की 30 लाख खुराकें मिलेंगी। उन्होंने बताया, “ रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव की यात्रा के दौरान इस हफ्ते रूस के टीके की (खरीद को लेकर) भी चर्चा की गई।”
सभी को कोविड-19 रोधी टीके के समान वितरण को लेकर शुरू की गई अंतरराष्ट्रीय पहल ‘कोविड-19 वैक्सीन ग्लोबल एक्सेस’ (कोवैक्स) से पाकिस्तान को मार्च के अंत तक एस्ट्राजेनेका टीके की करीब 17 लाख खुराकें मिलनी थीं लेकिन कोवैक्स ने सरकार को बाद में बताया कि ये खुराकें 30 जून तक दी जाएंगी।
facebook twitter instagram